Searching...
Sunday, August 16, 2020

ITR फाइल न करने पर देना पड़ सकता है भारी जुर्माना, साथ में हो सकती है जेल

6:33 PM
ITR फाइल न करने पर देना पड़ सकता है भारी जुर्माना, साथ में हो सकती है जेल

आयकर रिटर्न भरना हर उस वेतनभोगी के लिए जरूरी है जिनकी सालाना आय पांच लाख रुपये से ज्यादा है. ऐसा न करने पर उनको भारी भरकम जुर्माना देना पड़ सकता है या फिर जेल हो सकती है.

नई दिल्लीः आयकर रिटर्न भरना हर उस वेतनभोगी के लिए जरूरी है जिनकी सालाना आय पांच लाख रुपये से ज्यादा है. ऐसा न करने पर उनको भारी भरकम जुर्माना देना पड़ सकता है या फिर जेल हो सकती है. फिलहाल सरकार ने पांच लाख तक की आय वालों को आईटीआर फाइल करने से मुक्त कर रखा है, लेकिन इससे ज्यादा की आय वालों को अपना रिटर्न भरना ही पड़ेगा. इसको फाइल न करने से लोगों को कई सारे आर्थिक नुकसान भी हो सकते हैं.

समय पर रिटर्न भरना जरूरी

अगर आप 30 नवंबर 2020 तक वित्त वर्ष  2019-20 के आईटीआर फाइल कर देते हैं तो ठीक है. तय समय तक आईटीआर फाइल नहीं करते और इनकम टैक्स रिटर्न 31 दिसंबर 2020 तक फाइल करते हैं तो आपको 5,000 रुपये तक का जुर्माना देना पड़ सकता है. इसलिए 30 नवंबर 2020 तक अपने रिटर्न को जरूर फाइल कर दें, नहीं तो अच्छा खासा जुर्माना आपको देना पड़ सकता है.


अगर आप 31 दिसंबर तक भी आईटीआर फाइल नहीं करते और 31 मार्च 2021 तक आयकर रिटर्न फाइल करते हैं, तो आपको 10,000 रुपये तक का जुर्माना देना पड़ सकता है. वहीं अगर रिटर्न को फाइल नहीं किया जाता है तो आप करेंट असेसमेंट ईयर के नुकसान को अगले वित्तीय वर्ष में नहीं ले जा सकते हैं. ऐसे लोगों पर टैक्स गणना के मूल्य का 50 फीसदी से लेकर के 200 फीसदी तक जुर्माना लग सकता है. इसके साथ ही हाई वैल्यू वाले केसों में 7 साल की कठोर सजा हो सकती है. 

कुछ राहत भी है? 

अगर आपकी करयोग्य आमदनी सालाना पांच लाख रुपये से कम है, तो समय से आईटीआर फाइल नहीं करने पर अधिकतम जुर्माना 1,000 रुपये हो सकता है. अगर आपको आयकर विभाग से कोई नोटिस मिला है और आप उसके जवाब में आईटीआर फाइल कर रहे हैं, तो पिछले कई वर्षों के इनकम टैक्स रिटर्न आप देर से भी फाइल कर सकते हैं.

देर से आईटीआर फाइल करने के अन्य नुकसान 
अगर आप समय-सीमा तक आईटीआर फाइल नहीं करते तो आप कैपिटल गेंस या लॉस का आगे के वित्त वर्ष में लाभ (कैरी फॉरवर्ड) नहीं ले पाएंगे. अगर आप पर इनकम टैक्स की देनदारी बनती है और उसका भुगतान बकाया है, तो आपको एक फीसदी हर महीने के हिसाब से जुर्माना भी जमा करना होगा. 


क्या है कैपिटल गेंस टैक्स? 

कैपिटल गेंस का मतलब होता है पूंजी लाभ.अगर आपने घर, संपत्ति, जेवर, कार, शेयर, बॉन्ड आदि कुछ भी बेचा है तो उससे होने वाले लाभ को कैपिटल गेंस कहते हैं. इसी तरह पर इस तरह की संपत्ति को बेचने से होने वाले नुकसान पर कैपिटल लॉस होता है. कैपिटल गेंस को सरकार आपकी आमदनी का हिस्सा मानती है और इस पर आपको इनकम टैक्स चुकाना पड़ता है, इस हिसाब से भी आपके लिए आईटीआर फाइल करना जरूरी है.

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स