Searching...
Friday, August 14, 2020

इनकम टैक्स व्यवस्था बनेगी फेसलेस, सीमलेस, पेनलेस और फियरलेस, टैक्सपेयर्स चार्टर होगा लागू

इनकम टैक्स व्यवस्था बनेगी फेसलेस, सीमलेस, पेनलेस और फियरलेस, टैक्सपेयर्स चार्टर होगा लागू

 
नई दिल्ली : ईमानदार करदाता ही देश की व्यवस्था को सुचारू तरीके से चलाने की अहम कड़ी होते हैं। करदाताओं की इसी अहमियत को ध्यान में रखते हुए सरकार ने कर प्रणाली (टैक्स सिस्टम) में सुधार का सबसे बड़ा कदम उठाया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को ट्रांसपेरेंट टैक्सेशन - ऑनरिंग द ऑनेस्ट (पारदर्शी कराधान - ईमानदार को सम्मान) प्लेटफॉर्म लांच किया। साथ ही कहा कि सरकार सीमलेस, पेनलेस और फियरलेस टैक्स प्रणाली लागू करेगी। इससे करदाताओं का उत्पीड़न नहीं होगा और ईमानदार करदाता नियमों के पालन के लिए प्रेरित होंगे। उन्होंने टैक्सपेयर्स चार्टर लागू करने का भी एलान किया।



किसान और ईमानदार करदाता हमेशा से प्रधानमंत्री की प्राथमिकता में रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि जहां जटिलताएं होती है, वहां नियम को लागू करना मुश्किल होता है। कम कानून हो और जो कानून हो वह स्पष्ट हो तो करदाता भी खुश रहता है और देश भी तरक्की करता है। मोदी ने कहा कि टैक्स सिस्टम में बुनियादी बदलाव और ढांचागत सुधार की जरूरत थी क्योंकि यह सिस्टम आजादी के पहले बना था। इसमें समय के साथ कुछ बदलाव हुए, लेकिन इसका मूल चरित्र वही बना रहा। नतीजा यह हुआ कि ईमानदार करदाता को कठघरे में खड़ा किया जाने लगा। आयकर नोटिस फरमान की तरह बन गया। इस व्यवस्था ने ईमानदारी से व्यापार-कारोबार करने वालों, रोजगार देने वालों को और देश की युवा शक्ति की आकांक्षाओं को प्रोत्साहित करने के बजाय कुचलने का काम किया। पीएम ने देश में करदाताओं की कम संख्या पर भी चिंता जताई। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ साल में करदाताओं की संख्या बढ़ी है। बावजूद इसके 130 करोड़ की आबादी में वास्तविक करदाता मात्र 1.5 करोड़ ही हैं, जो बहुत कम है। लोगों को कर चुकाने के लिए स्वेच्छा से आगे आना चाहिए।


यह होगा फायदा

● अधिकारी व्यक्तिगत रूप से किसी करदाता से संपर्क नहीं कर पाएंगे
● करदाता भी किसी अधिकारी से मिलकर अपने हित में फैसला नहीं करा सकेंगे
● कर अनियमितता से जुड़े मामले जल्दी सुलझाए जा सकेंगे


इसलिए पड़ी जरूरत

कई बार कर अधिकारियों द्वारा गलत तरीके से किसी करदाता को धमकाने का मामला सामने आता है। अधिकारियों के व्यवहार के कारण ईमानदार करदाताओं में भी भय रहता है। वहीं ऐसे मामले भी होते हैं जहां अधिकारियों की साठगांठ से कोई अपने खिलाफ चल रहे मामले को दबा लेता है। नई व्यवस्था में ऐसा नहीं हो सकेगा।


यह है फेसलेस असेसमेंट
अभी टैक्स से जुड़े स्क्रूटनी, नोटिस और सर्वे जैसे मामले उसी शहर का टैक्स विभाग देखता है। नई व्यवस्था में एक केंद्रीकृत कंप्यूटर से मामलों की पहचान की जाएगी और किसी भी क्षेत्र के अधिकारी को कहीं के भी करदाता के मामले की जांच का जिम्मा मिल जाएगा। करदाता और अधिकारी एक-दूसरे को नहीं जानेंगे। करदाता को नोटिस केंद्रीकृत सिस्टम से ही भेजा जाएगा। नोटिस का जवाब भी करदाता ऑनलाइन ही दे सकेगा। 25 सितंबर से करदाताओं को इसी तरीके से फेसलेस अपील की सुविधा भी मिलने लगेगी।

सीमलेस : टैक्स प्रशासन करदाताओं को उलझाने के बजाय समस्या को सुलझाने का काम करेगा

पेनलेस : टेक्नोलॉजी से लेकर नियम तक सब कुछ आसान बनाया जाएगा 

फियरलेस : प्रशासन में भरोसा बढ़ाकर करदाताओं का डर खत्म किया जाएगा

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स