Searching...
Friday, August 21, 2020

अब समय से पंचायतों का नहीं हो सकेगा गठन, एक सितंबर से मतदाता पुनरीक्षण के अपने ही आदेश को आयोग ने किया निरस्त

अब समय से पंचायतों का नहीं हो सकेगा गठन, एक सितंबर से मतदाता पुनरीक्षण के अपने ही आदेश को आयोग ने किया निरस्त

उत्तर प्रदेश में मतदाता सूची पुनरीक्षण आदेश निरस्त, अब समय से पंचायतों का नहीं हो सकेगा गठन


यूपी राज्य निर्वाचन आयोग ने मतदाता सूची के वृहद पुनरीक्षण संबंधी अपने ही आदेश को निरस्त कर दिया है जिससे तय माना जा रहा है कि पंचायतों का समय से गठन नहीं हो सकेगा।


लखनऊ :  कोविड-19 के मद्देनजर उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव को लेकर फैली अनिश्चितता फिलहाल राज्य निर्वाचन आयोग के एक आदेश से खत्म होती दिख रही है। आयोग ने एक सितंबर से मतदाता सूची के वृहद पुनरीक्षण संबंधी अपने ही आदेश को निरस्त कर दिया है, जिससे अब यह तय माना जा रहा है कि पंचायतों का समय से गठन नहीं हो सकेगा।


उत्तर प्रदेश में मौजूदा पंचायतों का पांच वर्ष का कार्यकाल 25 दिसंबर को पूरा हो रहा है। समय से चुनावी प्रक्रिया पूरी करने के लिए राज्य निर्वाचन आयोग को सामान्यता छह माह चाहिए होते हैं। विशेष परिस्थितियों में आयोग न्यूनतम चार महीने में भी चुनाव करा सकता है। परिसीमन के आंकड़े मिलने के बाद मदर रोल तैयार करने में जहां 10-15 दिन लगते हैं, वहीं मतदाता सूची के पुनरीक्षण में 75-90 दिन और चुनाव प्रक्रिया के लिए 35-45 दिन चाहिए होते हैं। ऐसे में आयोग ने 19 अगस्त को सभी जिलाधिकारियों (जिला निर्वाचन अधिकारी) को आदेश जारी कर पहली सितंबर से मतदाता सूची का वृहद पुनरीक्षण करने संबंधी अपने विचार बताते हुए तैयारियां करने के लिए कहा था।


राज्य निर्वाचन आयोग के इस आदेश से लगने लगा था कि समय से ही पंचायत चुनाव हो जाएंगे, लेकिन कुछ घंटों के अंतर पर ही आयोग की ओर से अपर निर्वाचन आयुक्त वेदप्रकाश वर्मा ने पहले जारी आदेश को शून्य यानी रद करते हुए एक और आदेश जारी कर बताया कि वह तो त्रुटिवश जारी हो गया था। आयोग के इस चौंकाने वाले रुख को देखते हुए जानकारों का मानना है कि पहली सितंबर से सूची का काम न होने से 25 दिसंबर तक पंचायतों का गठन भी संभव नहीं होगा।


सूत्रों के मुताबिक राज्य निर्वाचन आयोग ने तो चुनाव संबंधी तैयारी कर ली है, लेकिन राज्य सरकार की ओर से उसे हरी झंडी नहीं मिल रही है। आयोग ने अपनी ओर से दीपावली के बाद 16 नवंबर से 20 दिसंबर के बीच चुनाव प्रस्तावित कर रखा है। सूत्र बताते हैं कि चुनाव कराने को लेकर पिछले दिनों राज्य निर्वाचन आयुक्त मनोज कुमार, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले भी हैं। माना जा रहा है कि मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए सरकार नवंबर-दिसंबर में चुनाव नहीं कराना चाहती है। परिस्थितियां बेहतर होने पर जनवरी से मार्च के बीच चुनाव कराए जा सकते हैं।


लखनऊ : कोविड-19 के मद्देनजर पंचायत चुनाव को लेकर फैली अनिश्चितता फिलहाल राज्य निर्वाचन आयोग के एक आदेश से खत्म होती दिख रही है। आयोग ने एक सितंबर से मतदाता सूची के वृहद पुनरीक्षण संबंधी अपने ही आदेश को निरस्त कर दिया है, जिससे अब यह तय माना जा रहा है कि पंचायतों का समय से गठन नहीं हो सकेगा। मौजूदा पंचायतों का पांच वर्ष का कार्यकाल 25 दिसंबर को पूरा हो रहा है। समय से चुनावी प्रक्रिया पूरी करने के लिए आयोग को सामान्यता छह माह चाहिए होते हैं। विशेष परिस्थितियों में आयोग न्यूनतम चार महीने में भी चुनाव करा सकता है। परिसीमन के आंकड़े मिलने के बाद मदर रोल तैयार करने में जहां 10-15 दिन लगते हैं, वहीं मतदाता सूची के पुनरीक्षण में 75-90 दिन और चुनाव प्रक्रिया के लिए 35-45 दिन चाहिए होते हैं। ऐसे में आयोग ने 19 अगस्त को सभी जिलाधिकारियों (जिला निर्वाचन अधिकारी) को आदेश जारी कर पहली सितंबर से मतदाता सूची का वृहद पुनरीक्षण करने संबंधी अपने विचार बताते हुए तैयारियां करने के लिए कहा था। आयोग के इस आदेश से लगने लगा था कि समय से ही पंचायत चुनाव हो जाएंगे, लेकिन कुछ घंटों के अंतर पर ही आयोग की ओर से अपर निर्वाचन आयुक्त वेदप्रकाश वर्मा ने पहले जारी आदेश को शून्य यानी रद करते हुए एक और आदेश जारी कर बताया कि वह तो त्रुटि क्या जारी हो गया था आयोग के इस चौंकाने वाले रुख को देखते हुए जानकारों का मानना है कि पहली सितंबर से सूची का काम न होने से 25 दिसंबर तक पंचायतों का गठन भी संभव नहीं होगा।

सूत्रों के मुताबिक आयोग ने तो चुनाव संबंधी तैयारी कर ली है, लेकिन राज्य सरकार की ओर से उसे हरी झंडी नहीं मिल रही है।





संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स