Searching...
Friday, May 8, 2020

विकास कार्यों की निगरानी और जनता से जुड़ी सेवाएं हो रहीं ऑनलाइन, सरकारी विभागों के लिए हथियार बन गए हैं पोर्टल और एप

विकास कार्यों की निगरानी और जनता से जुड़ी सेवाएं एप व पोर्टल पर ला रहे हैं विभाग, पूरी दक्षता से काम करने का नया तरीका

सरकारी विभागों के लिए हथियार बन गए हैं पोर्टल और एप


जैसे भी हो काम करने की जिद में | कोई ना कोई रास्ता मिलता है और यही अविष्कार है। कुछ ऐसा ही अविष्कार यूपी के प्रशासनिक अमले की कार्य संस्कृति में इन दिनों दिख रहा है। सरकार के विभागों ने न्यूनतम मानव संसाधन के साथ पूरी क्षमता में काम को अंजाम तक | पहुंचाने के लिए एप और पोर्टल को हथियार बना लिया है। विकास कार्यों की निगरानी से लेकर जनता से जुड़ी योजनाएं ऑनलाइन प्लेटफार्म पर तेजी से लाई जा रही हैं। 


कोरोना महामारी के दौर में भी प्रदेश सरकार के साथ ही उसके अधिकारी 24 घंटे काम में जुटे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से अधिकारियों और मंत्रियों के संपर्क में हैं। उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य भी प्रतिदिन वीडियो काफ्रेसिंग के माध्यम से विभागीय कामकाज पर नजर हैं। मुख्य सचिव से लेकर जिले तक के अधिकारी दिनभर ऑनलाइन प्लेटफार्म से जुड़े हुए हैं।


 अब तो राज्य में होने जा रही शिक्षकों की बड़ी भर्ती में काउंसिलिंग से लेकर तैनाती रखे हुए तक ऑनलाइन करने की तैयारी सरकार ने की है। 


सुरक्षा एपसे रख रहा है कामों पर नजरः लोक निर्माण विभाग ने राज्य  शुरू कराए गए कामों पर नजर रखने के लिए सुरक्षा एप लांच किया है। इस एप से पीडब्ल्यूडी के साथ ही सेतु निगम और राजकीय निर्माण निगम द्वारा शुरू कामों पर नजरें रखी जा रही है। 


एमएसएमई उद्यमियों के लिए बनाया एप

राज्य की 90 लाख से अधिक सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों की दिक्कतों को दूर करने के लिए एमएसएमई विभाग ने एमएसएमई साथी" नाम से पोर्टल और एप तैयार किया है। इसे एक्टिवेट किया जा रहा है। बैंकों से वित्तीय सहायता, विभागों से एनओसी, पास, श्रमिकों की दिक्कतें आदि का समाधान इस एप के माध्यम से विभाग देगा। एमएसएमई के प्रमुख सचिव नवनीत सहगल के मुताबिक इस एप पर उद्यमियों से जुड़ी सुविधाएं ऑनलाइन की जा रही हैं।



गिट्टी, बाल,की बिक्री के लिए 'मेटल मार्ट'

 निर्माण व विकास कार्यों में गिट्टी, बालू, बॉर्डर, मौरंग की कमी ना हो लिहाजा भूतत्व एवं खनिकर्म विभाग ने "मिनरल मार्ट नाम से ई कामर्स प्लेटफार्म तैयार कराया है। इस प्लेटफार्म पर सीधे खरीददार और विक्रेता जुड़ेंगे। ऑनलाइन आर्डर लिए जाएंगे और खरीदार के बताए हुए जगह पर मिनरल पहुंचा दिए जाएंगे। विभाग की सचिव डा. रोशन जैकब के मुताबिक पेमेंट गेट-वे का काम चल रहा है, जल्द लांच कर दिया जाएगा।


संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स