Searching...
Sunday, May 17, 2020

कर्मचारी और शिक्षकों ने सांकेतिक आंदोलन शुरू किया काला फीता बांधकर विरोध करेंगे

कर्मचारी और शिक्षकों ने सांकेतिक आंदोलन शुरू किया काला फीता बांधकर विरोध करेंगे

लखनऊ। इंडियन पब्लिक सर्विस इंप्लाइज फेडरेशन (इप्सेफ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीपी मिश्र प्रधानमंत्री कोई-मेल भेज भत्तों की कटौती वापस करने की मांग की इसके लिए कर्मचारी 19 मई को काली पट्टी बाधेंगे। राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के मंडलीय मंत्री राजेश चौधरी ने बताया कि वन विभाग में डॉ. पीके सिंह व आशीष पाण्डेय, लोहिया अस्पताल में डीपी त्रिपाठी राम मनोहर कुशवाहा, संस्थान में अमित शर्मा, केजीएमयू में प्रदीप गंगवार, एसजीपीजीआई में सीमा शुक्ला, सिविल अस्पताल में जीसी दुबे, बलरामपुर में सुभाष श्रीवास्तव के नेतृत्व में कर्मचारी विरोध करेंगे। उधर स्थानीय निकाय कर्मचारी प्रदेशव्यापी आंदोलन की तैयारी में राज्य कर्मचारी राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष हरिकिशोर तिवारी और महामंत्री महामंत्री शिवबरन सिंह यादव ने वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिये भत्तों के कटौती और सरकार तथा नौकरशाहों की भूमिका पर विचार रखते हुए सभी संगठनों के शीर्ष पदाधिकारियों के साथ प्रदेशव्यापी आंदोलन पर जोर दिया। वीडियो कांफ्रेंसिंग में कई कर्मचारी संगठन शामिल रहे।



महासंघ के अध्यक्ष शशि कुमार मिश्र नेबताया कि मंगलवार को काला फीता बांधकर विरोध प्रदर्शन करेंगे।

मिनिस्टीरियल एसोसिएशन सिंचाई विभाग सज्जा संगठन तेलीबाग में कार्यरत कर्मचारियों ने काली पट्टी बांधकर भ्तों केकटौती का विरोध जताया. हिन्दुस्तान

कर्मचारी शिक्षक समन्वय समिति के आह्वान पर घटक संगठनों के तमाम वरिष्ठ नेताओं ने सोमवार को कर्मचारी नेता स्वर्गीय बी. एन. सिंह के प्रतिमा स्थल पर उनकी पुण्य तिथिपर पुष्पांजलि अर्पित की। इसके बाद समिति से जुड़े संगठनों के कर्मचारियों ने काला फीता बांधकर कार्यालयों में काम किया। इस दौरान समन्वयक अमरनाथ यादव, प्रवक्ता बीएल कुशवाहा, राज्य कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष मिश्रा, मिनिस्ट्रियल फेडरेशन के अध्यक्ष नरेंद्र प्रताप सिंह, सुपरवाइजर एसोसिएशन की अध्यक्ष रेनू शुक्ला एवं पेंशनर्स एसोसिएशन के संयुक्त मंत्री ओपी त्रिपाठी एवं नरेंद्र कुमार उपस्थित रहे। आंदोलन को कई कर्मचारी संगठनों का सहयोग मिल रहा है।

-------------–------------

शिक्षाकर्मी आज काला फीता बांधकर करेंगे काम लखनऊ | 

 कर्मचारी शिक्षक समन्वय समिति के बैनर तले सांकेतिक आंदोलन, 25 मई तक शिक्षक व कर्मचारी कार्यालयों में जताएंगे विरोध


भत्ते खत्म किए जाने से नाराज कर्मचारी 27 से करेंगे आंदोलन

कर्मचारी-शिक्षक आज से काली पट्टी बांधकर करेंगे काम


लखनऊ। भत्तों को खत्म करने से नाराज कर्मचारी-शिक्षक समन्वय समिति ने 18 मई से सांकेतिक आंदोलन का एलान किया है। समिति ने तय किया है कि 18 से 25 मई तक कर्मचारी व शिक्षक काली पट्टी बांधकर काम करेंगे। सरकार ने फैसले पर पुनर्विचार न किया तो आंदोलन को तेज किया जाएगा। समिति ने रेड जोन में माध्यमिक शिक्षक संघ के मूल्यांकन कार्य बहिष्कार के समर्थन की भी घोषणा की है। 


कर्मचारी-शिक्षक समन्वय समिति के पदाधिकारियों ने शनिवार को ऑनलाइन बैठक में महंगाई भत्ता, महंगाई राहत फ्रीज करने, 18 माह सहित 8 भत्ते समाप्त करने एवं श्रमिक हित संरक्षण में कई दशकों से बने श्रम कानूनों को झटके में निलंबित करने पर नाराजगी जताई। 


प्रवक्ता बीएल कुशवाहा ने बताया कि समिति के समन्वयक अमरनाथ यादव ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर कर्मचारी व शिक्षक विरोधी फैसलों को वापस लेने का आग्रह किया है। समिति ने सरकार को सलाह दी है कि सीबीएसई की तरह माध्यमिक शिक्षा परिषद की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन भी शिक्षकों के घर उत्तर पुस्तिकाएं भेजकर करा लिया जाए। खासतौर से रेड जोन के मूल्यांकन।


लखनऊ। प्रदेश सरकार की ओर से कर्मचारियों का डीए फ्रीज कर 6 भत्तों को खत्म करने से नाराज राज्य कर्मचारी महासंघ ने 27 मई से विरोध प्रदर्शन का एलान किया है। वे काली पट्टी बांधकर भोजन-अवकाश में विरोध-प्रदर्शन करेंगे।


 राज्य कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष अजय सिंह व महामंत्री राजेश ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि प्रदेश स्तरीय बैठक के बाद यह निर्णय किया गया। जल्द ही सभी कर्मचारी संगठनों की मीटिंग कर उन्हें प्रदेशव्यापी आंदोलन से जोड़ा जाएगा। 


यूपी मिनिस्ट्रियल कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ की कलेक्ट्रेट इकाई के मंत्री एनके श्रीवास्तव ने भी आंदोलन में हिस्सेदारी की बात कही। उन्होंने बताया कि कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन में सरकारी कर्मचारी पूरे सेवाभाव से काम कर रहे हैं। उनका मनोबल बढ़ाने के बजाय भत्ते खत्म करने का कदम हताश करने वाला है।

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स