Searching...
Wednesday, September 15, 2021

NPS : नेशनल पेंशन स्कीम में निकासी के नियम क्या हैं, कितने तरह के खाते होते हैं? जानिए सब कुछ

NPS : नेशनल पेंशन स्कीम में निकासी के नियम क्या हैं, कितने तरह के खाते होते हैं? जानिए सबकुछ


NPS सरकार समर्थित यह एक ऐसी योजना है, जो देश में सीनियर सिटीजंस को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करती है. यह एक आकर्षक लॉन्ग टर्म सेविंग प्लेटफॉर्म प्रदान करती है, जहां आप सुरक्षित और विनियमित मार्केट बेस्ड रिटर्न के जरिए अपने रिटायर्मेंट के बाद के जीवन को सुखद बना सकते हैं.


नौकरीपेशा आदमी के लिए रिटायरमेंट एक महत्वपूर्ण मुद्दा है. इसके लिए वह प्लानिंग बनाता है और सोचता है अच्छा निवेश करें. ताकि रिटायरमेंट के बाद उसे पैसे की कोई दिक्कत न हो. ऐसी स्थिति में नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) का नाम सबसे पहले लिया जाता है.


सरकार समर्थित यह एक ऐसी योजना है, जो देश में सीनियर सिटीजंस को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करती है. यह एक आकर्षक लॉन्ग टर्म सेविंग प्लेटफॉर्म प्रदान करती है, जहां आप सुरक्षित और विनियमित मार्केट बेस्ड रिटर्न के जरिए अपने रिटायर्मेंट के बाद के जीवन को सुखद बना सकते हैं.


■ दो प्रकार के होते हैं खाते

एनपीएस में खातों के दो प्रकार होते हैं. टियर-1 और टियर-2. एनपीएस में निवेश के लिए टियर-1 खाता खुलवाना आवश्यक है, जबकि टियर-2 खाता स्वैच्छिक होता है, जिसे टियर-1 खाते के अतिरिक्त खोला जा सकता है. टियर-2 खाते में निकासी, मैच्योरिटी और मैच्योरिटी पर रि-इन्वेस्टमेंट पर कुछ प्रतिबंध रहते हैं.

वहीं, टियर-2 खाते में टियर-1 की तरह निकासी पर कोई प्रतिबंध नहीं होते है, लेकिन यहां कोई टैक्स लाभ भी नहीं मिलता है. ऐसे में अगर आप रिटायरमेंट के निवेश नहीं कर रहे हैं और आपको टैक्स लाभ नहीं चाहिए, लेकिन निकासी में लचीलता चाहते हैं, तो आपको एनपीएस के टियर-2 खाते में निवेश करना चाहिए. दूसरी तरफ अगर आप लॉन्ग टर्म वेल्थ क्रिएशन के लिए निवेश करना चाहते हैं, तो आपको टियर-1 खाते के जरिए निवेश करना चाहिए.


डेट और इक्विटी में एसेट अलोकेशन का विकल्प

एनपीएस एक मार्केट लिंक्ड इन्वेस्टमेंट उत्पाद है और इसमें मीडियम से हाई रिस्क होती है. निवेशकों के पास डेट और इक्विटी दोनों में एसेट अलोकेशन का विकल्प होता है. निवेश के समय निवेशक के पास एक्टिव मोड या ऑटो मोड दोनों में से किसी एक को चुनने का विकल्प भी होता है.

ऑटो असेट अलोकेशन निवेशक की उम्र से लिंक्ड होता है और जैसे-जैसे उम्र बढ़ती जाती है, फंड अलोकेशन धीरे-धीरे डेट पॉर्शन की तरफ बढ़ता जाता है. एक्टिव मोड में निवेशक अलोकेशन का अनुपात स्वयं तय कर सकता है. दोनों मोड में अधिकतम इक्विटी अलोकेशन कुल निवेश के 75 फीसदी से अधिक नहीं हो सकता है.


निकासी के नियम

एनपीएस सब्सक्राइबर स्कीम में ज्वाइनिंग के तीन महीने के बाद पीएफआरडीए द्वारा अनुमत विशेष आवश्यकताओं के लिए आंशिक निकासी के योग्य होता है. जीवन को जोखिम में डालने वाली बीमारी, शादी, बच्चों की शादी, प्रॉपर्टी के निर्माण या खरीदारी के लिए अथवा कोई नया उद्यम शुरू करने की स्थिति में आंशिक निकासी की अनुमति मिलती है.


आंशिक निकासी की सीमा

एक सब्सक्राइबर अपने स्वयं के योगदान के 25 फीसदी तक की निकासी कर सकता है. नियम के अनुसार, एक एनपीएस अकाउंट की कुल अवधि के दौरान कुल तीन बार ही आंशिक निकासी की जा सकती है. वहीं, दो निकासी के बीच 5 साल का गेप होना जरूरी है. यदि किसी विशिष्ट बीमारी के इलाज के लिए निकासी की जा रही है, तो गेप की यह शर्त लागू नहीं होती है.


रिटायरमेंट पर कितनी कर सकते हैं निकासी

सामान्य तौर पर रिटायरमेंट पर सब्सक्राइबर्स को कम से कम 40% फंड की एन्युटी करानी होगी और शेष 60% राशि को एकमुश्त निकाला जा सकता है. अब वे एनपीएस ग्राहक बिना एन्युटी खरीदे 100% राशि निकाल सकते हैं, जिनका पेंशन कॉर्पस 5 लाख रुपये के बराबर या उससे कम हो.

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स