Searching...
Wednesday, June 10, 2020

फैसला : अनजाने में अपराध पर नहीं लागू होगा SC/ST Act

SC/ST एक्ट तभी, जब अपराध जाति की जानकारी के साथ हो : इलाहाबाद हाईकोर्ट

फैसला : अनजाने में अपराध पर नहीं लागू होगा  SC/ST Act


इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक आदेश में कहा है कि एससी/एसटी एक्ट का मुकदमा चलाने के लिए जरूरी है कि पीड़ित के साथ अपराध इसलिए किया गया कि वह अनुसूचित जाति का है। यदि अपराध करने वाले को यह नहीं पता है कि वह जिसके साथ अपराध कर रहा है वह अनुसूचित जाति का है तो ऐसे में आरोपी पर एससी/एसटी एक्ट के प्रावधान लागू नहीं होंगे। कोर्ट ने अनुसूचित जाति की बच्ची से दुष्कर्म के मामले में आरोपी को एससी/एसटी एक्ट के आरोप से इसी आधार पर बरी कर दिया। साथ ही अभियुक्त की उम्रकैद की सजा घटाकर दस वर्ष कर दी। न्यायमूर्ति पंकज नकवी एवं न्यायमूर्ति एसएस शमशेरी की खंडपीठ ने यह आदेश के अलीगढ़ के शमशाद की आपराधिक अपील पर सुनवाई करते हुए दिया।


मामले के तथ्यों के अनुसार शमशाद के खिलाफ नौ वर्षीय पीड़िता की मां ने 15 अप्रैल 2009 को एफआईआर दर्ज कराई थी कि अभियुक्त पीड़िता को बहला फुसलाकर ले गया और दुराचार किया। पुलिस ने अभियुक्त के खिलाफ दुराचार के साथ एससी/एसटी एक्ट की धाराओं में भी चार्जशीट दाखिल की। सेशन कोर्ट ने पीड़िता के बयान और अन्य साक्ष्यों को देखते हुए शमशाद को उम्रकैद व 50 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई।


सजा के खिलाफ अपील पर बहस में कहा गया कि अभियुक्त को इस बात की जानकारी नहीं थी कि पीड़िता अनुसूचित जाति की है। उसने इसलिए अपराध नहीं किया कि पीड़िता अनुसूचित जाति की है, इसलिए इस मामले में एससी/एसटी एक्ट के प्रावधान लागू नहीं होंगे। कोर्ट ने कहा कि अभियोजन यह प्रमाणित करने में असफल रहा कि अभियुक्त ने पीड़िता के साथ इसलिए अपराध किया कि वह अनुसूचित जाति की है। अभियुक्त पीड़िता को पहले से नहीं जानता था इसलिए इस मामले में एससी/एसटी एक्ट के प्रावधान लागू नहीं होंगे। सजा के बिंदु पर सुप्रीम कोर्ट के कई फैसले प्रस्तुत कर सजा कम करने की मांग की गई। कोर्ट ने कहा कि घटना के समय अभियुक्त लगभग 20 वर्ष का था। वह लगभग 12 वर्ष जेल में बिता चुका है। इस मामले में दस वर्ष कारावास की सजा न्याय की मंशा को पूरी करती है। कोर्ट ने जेल में बिताई गई अवधि को पर्याप्त सजा मानते हुए अभियुक्त को रिहा करने का आदेश दिया है।

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स