Searching...
Monday, December 28, 2020

शेयर बाजार की तेजी से नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) में निवेश पर रिटर्न बढ़ा, देखें विभिन्न पेंशन फंड्स का पिछले 5 वर्षों में रिटर्न

शेयर बाजार की तेजी से नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) में निवेश पर रिटर्न बढ़ा, देखें विभिन्न पेंशन फंड्स का पिछले 5 वर्षों में रिटर्न

शेयर बाजार के रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचने का लाभ नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) में निवेश करने वाले निवेशकों को भी मिला है। एनपीएस ने इस साल निवेशकों को दोहरे अंक में रिटर्न दिया है। एनपीएस ने इस साल औसत 13.20 फीसदी की दर से रिटर्न दिया है। इसमें एचडीएफसी पेंशन मैनेजमेंट का टियर-1 खाता ने 14.87 फीसदी की दर से रिटर्न दिया है।


ऐसे में वित्तीय विशेषज्ञों का कहना है कि रिटायरमें प्लानिंग के लिए एनपीएस एक बेहतर निवेश विकल्प है। शेयर बाजार से जुड़े होने के कारण निवेशकों को इसमें एफडी और दूसरे निवेश माध्यमों के मुकाबले ज्यादा रिटर्न मिलना तय है। हालांकि, यह भी संभव है कि जब बाजार में गिरावट आए तो रिटर्न कम मिले लेकिन लंबी अवधि में यह बेहतर प्रदर्शन करेगा। सरकार की ओर से मैनेज की जा रही एनपीएस स्कीम के टियर-1 खाता में निवेश बढ़कर 14,421 करोड़ रुपये पहुंच गया है।


एनपीएस के तहत टियर-1 स्कीम का प्रदर्शन

पेंशन फंड (स्कीम-ई) एक साल में रिटर्न तीन साल में रिटर्न पांच साल में रिटर्न सात साल में रिटर्न औसत रिटर्न

एफडी के मुकाबले ज्यादा रिटर्न

वित्तीय विशेषज्ञों का कहना है कि एनपीएस एक बेहतर निवेश विकल्प है। इसमें दिया जा रहा एन्युटी विकल्प इसे बेहतर बनाता है। इस स्कीम में निवेश से आपके पैसे को बढ़ने का ज्यादा मौका मिलता है। अगर कोई एनपीएस में 50:50 का विकल्प को चुनता है जिसमें आधा पैसा डेट में और आधा इक्विटी में लगाया जाता है तो निवेशक को डेट से आठ फीसदी का रिटर्न मिलता है। एनपीएस में निवेश करने वाले को औसत 10 फीसदी से ज्यादा रिटर्न मिल सकता है। यह एफडी के मुकाबले काफी बेहतर है क्योंकि एफडी पर ब्याज छह फीसदी से नीचे पहुंच गया है।

मिलते हैं दो तरह विकल्प

एनपीएस में निवेश के दो तरह विकल्प हैं। पहला विकल्प है एक्टिव मोड। इसके तहत निवेशक हर साल अपने रिटर्न का आंकलन करते इक्विटी और डेट के विकल्पों में बदलाव कर सकता है। वहीं ऑटो मोड का विकल्प चुनने पर निवेशक के पैसे को आठ फंड मैनेजर हैंडल करते हैं और बाजार के अनुसार इक्विटी और डेट में बदलाव करते रहते हैं।

प्री-मैच्योर निकासी की सुविधा

एनपीएस के तहत कुछ विशेष परिस्थितियों में प्री-मैच्योर निकासी की जा सकती है। योजना के तहत नया व्यापार शुरू करने, घर खरीदने या बनाने, शादी, बच्चों की पढ़ाई व लिस्टेड बीमारी आदि के लिए ही प्री-मैच्योर निकासी की जा सकती है।

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स