Searching...
Thursday, October 22, 2020

उत्तर प्रदेश : पारिवारिक पेंशन की अनुमन्यता, परिवार का वर्गीकरण, पात्रता , मृत्यु उपादान व अतिरिक्त पेंशन संबंधी पूछे जाने लायक महत्वपूर्ण सवालों के जवाब एक जगह। Family Pension FAQ

उत्तर प्रदेश : पारिवारिक पेंशन की अनुमन्यता, परिवार का वर्गीकरण, पात्रता , मृत्यु उपादान व अतिरिक्त पेंशन संबंधी पूछे जाने लायक महत्वपूर्ण सवालों के जवाब एक जगह।  Family Pension FAQ




पारिवारिक पेन्शन की अनुमन्यता हेतु परिवार को निम्न प्रकार वर्गीकृत किया जायेगा :-

वर्ग-1
  • विधवा/विधुर, आजन्म अथवा पुनर्विवाह, जो भी पहले हो,
  • पुत्र/पुत्री (विधवा पुत्री सहित) को विवाह/पुनर्विवाह अथवा 25 वर्ष की आयु तक अथवा जीविकोपार्जन की तिथि, जो भी पहले हो, तक।
वर्ग-2
  • अविवाहित/विधवा/तलाकशुदा पुत्री, जो वर्ग-1 से आच्छादित नहीं है, को विवाह/पुनर्विवाह तक अथवा जीविकोपार्जन की तिथि मृत्यु की तिथि तक, जो भी पहले हो।
  • ऐसे माता पिता जो सरकारी सेवक पर उसके जीवनकाल में पूर्णतः आश्रित रहे हो तथा मृत सरकारीसेवक ने अपने पीछे कोई विधवा/विधुर अथवा बच्चे नहीं छोड़े है।

आश्रित माता-पिता अविवाहित/तलाकशुदा/विधवा पुत्री की पारिवारिक पेन्शन जीवन पर्यन्त मिलेगी।

वर्ग-2 से आच्छादित अविवाहित/विधवा/तलाकशुदा पुत्री तथा आश्रित माता/पिता की पारिवारिक पेन्शन की अनुमन्यता उसी दशा में होगी जब मृतक के परिवार में पात्र व्यक्ति उपलब्ध नहीं है तथा मृतक सरकारी सेवक के परिवार में ऐसी कोई संतान न हो जो विकलांग हो। पारिवारिक पेन्शन की अनुमन्यता बच्चों में उनकी जन्मतिथि के क्रम में होगी अर्थात् पहले जन्म लिये बच्चे को अनुमन्यता पहले होगी और उसकी पात्रता समाप्त होने के उपरान्त बाद में जन्म लेने वाले बच्चे की पात्रता स्थापित होगी।

उपरोक्त व्यवस्था के अधीन पारिवारिक पेन्शन हेतु आश्रित माने जाने का आधार पारिवारिक पेन्शन की न्यूनतम सीमा राशि तथा उस पर अनुमन्य मँहगाई राहत पर निर्धारित होगी।

संतानहीन विधवा को पारिवारिक पेन्शन का भुगतान उसके पुनर्विवाह के उपरान्त भी किया जायेगा परन्तु शर्त यह है कि यदि विधवा की सभी व्यक्तिगत आय पारिवारिक पेन्शन की न्यूनतम धनराशि की सीमा के बराबर अथवा उससे अधिक हो जाएगी उस दशा में पारिवारिक पेन्शन बन्द हो जाएगी। उक्त प्रकार के प्रकरणों में विधवा को संबंधित कोषागार को प्रत्येक 06 माह पर एक प्रमाण पत्र देना होगा जिसमें उसकी सभी स्रोतों से आय का उल्लेख होगा।

विकलांग संतान को आजीवन, किन्तु पति/पत्नी की मृत्यु के बाद उनकी संतानों को उनकी आयु की वरीयता के क्रम में देय होगी, अर्थात् आयु के अनुसार ज्येष्ठतम् पुत्र/पुत्री को उसके पश्चात् उससे कनिष्ठ इसी क्रम में पारिवारिक पेन्शन अनुमन्य होती रहेंगी। विकलांग संतान यदि वरीयता में पहले आती है तो विकलांग संतान के पहले आयु की वरीयता में आने वाली संतानों को क्रम समाप्त होने पर विकलांग पुत्र/पुत्री को पेन्शन अनुमन्य होगी।

(4) मृतक शासकीय सेवक के ऊपर पूर्ण रूप से आश्रित ऐसे माता/पिता जिनकी आय रू0 2550/- से कम हो ।

(5) यदि उत्तरजीवी दो पत्नियाँ है तो वरिष्ठ अर्थात् जिसका विवाह पहले हुआ हो, को पहले क्रम से पारिवारिक पेन्शन स्वीकृत होगी, बाद में दूसरी पत्नी को।

(6) मानसिक रूप से विकलांग पुत्र/पुत्री तथा अवयस्क पुत्र/पुत्री को पारिवारिक पेन्शन का भुगतान विविध संरक्षक के माध्यम् से किया जायेगा।


पारिवारिक पेन्शन की पात्रता :-
पारिवारिक पेन्शन हेतु अर्हकारी सेवा की कोई बाध्यता नहीं है। छठे वेतन आयोग की संस्तुतियों के फलस्वरूप पारिवारिक पेन्शन सम्बन्धित शासकीय सेवक द्वारा अन्तिम आहरित वेतन (वेतन का तात्पर्य मूल नियम-9 (21)(1) में परिभाषित वेतन से है) का 30 प्रतिशत किन्तु न्यूनतम रू0 3500/- से कम नहीं होगी।
सेवानिवृत्ति की दशा में पारिवारिक पेन्शन कर्मचारी की 65 वर्ष की आयु या 5 वर्ष तक दोगुनी दर से किन्तु पेन्शन से अधिक नहीं तत्पश्चात् 30 प्रतिशत सामान्य दर से देय होती है।
मृत्यु की दशा में कर्मचारी की सेवा यदि 7 वर्ष से कम की है, तो उसे दोगुनी दर से (अर्थात् अन्तिम आहरित वेतन का 50 प्रतिशत) अनुमन्य नहीं होगी। उसे सामान्य दर (अर्थात् अन्तिम आहरित वेतन का 30 प्रतिशत) न्यूनतम पेन्शन ही अनुमन्य होगी, किन्तु यदि सरकारी सेवक ने 7 वर्ष से अधिक की सेवा पूर्ण कर ली है तो उसे मृत्यु के अगले दिनांक से 10 वर्ष तक दोगुनी दर किन्तु यह ध्यान रहें कि उसकी आयु 65 वर्ष से अधिक की न हो तत्पश्चात् समान्य दर से पारिवारिक पेन्शन अनुमन्य होती है।

3- मृत्यु उपादान:- मृत्यु उपादान की पात्रता कर्मचारी द्वारा इस हेतु नामांकन के आधार पर होगी। नामांकन के अभाव में पात्रता के लिये परिवार को दो श्रेणियों में बांटा गया है। पहली श्रेणी के परिवार के सदस्यों में उपादान की धनराशि बराबर-बराबर देय होगी। यदि इस श्रेणी का कोई सदस्य नहीं है, तो दूसरी श्रेणी के परिवार के सदस्यों में इसे बराबर-बराबर बांटा जायेगा। यदि नामांकन नहीं है और परिवार में कोई सदस्य नहीं है तो मृत्यु उपादान शासन के पक्ष में व्यपगत हो जायेगी।


परिवार की प्रथम श्रेणी:- पति या पत्नी, पुत्र एवं अविवाहित पुत्रियाँ (सौतेली एवं गोद ली हुई संतानें भी सम्मिलित होंगी)

परिवार की द्वितीय श्रेणी:- विवाहित एवं विधवा पुत्रियाँ, 18 वर्ष से कम आयु के भाई, अविवाहित बहने, माता/पिता तथा पूर्व मृत पुत्र की संताने।


मृत्त्यु उपादान की दरें निम्न प्रकार से है:- (पारिवारिक पेन्शन की भाँति मृत्यु उपादान में भी अर्हकारी सेवा की कोई बाध्यता नहीं है)

सेवा अवधि   मृत्यु उपादान की दर
एक वर्ष से कम की सेवा
एक वर्ष से अधिक किन्तु 5 वर्ष
से कम की सेवा
 5 वर्ष अथवा उससे अधिक किन्तु
20 वर्ष से कम की सेवा
20 वर्ष या उससे अधिक की सेवा    
परिलब्धियों का दोगुना
परिलब्धियों का छः गुना
परिलब्धियों का 12 गुना
अर्हकारी सेवा की प्रत्येक पूर्ण छमाही अवधि के लिये परिलब्धियों के 1/2 के बराबर होगी, जिसकी अधिकतम् सीमा अन्तिम आहरित परिलब्धियों के 33 गुने के बराबर अथवा रू0 10,00,000/- जो भी कम हो से अधिक नहीं होगी।


परिलब्धियों का तात्पर्य:- मूल नियम 9 (21)(1) के अन्तर्गत परिभाषित वेतन अर्थात् मूल वेतन ग्रेड वेतन तथा मृत्यु के दिनांक को प्राप्त मँहगाई भत्ते के योग को सम्मिलित करते हुये है।


अतिरिक्त पेन्शन/पारिवारिक पेन्शन:- पेन्शनरों/पारिवारिक पेन्शनरों की पेन्शन/पारिवारिक पेन्शन की धनराशि में निम्न प्रकार से पेन्शन/पारिवारिक पेन्शन अनुमन्य होगी।

पेन्शन/पारिवारिक पेन्शनर की आयुपेन्शन/पारिवारिक पेन्शनर की अतिरिक्त धनराशि
80 वर्ष परन्तु 85 वर्ष से कममूल पेन्शन/पारिवारिक पेन्शन का 20 प्रतिशत प्रतिमाह
85 वर्ष परन्तु 90 वर्ष से कममूल पेन्शन/पारिवारिक पेन्शन का 30 प्रतिशत प्रतिमाह
90 वर्ष परन्तु 95 वर्ष से कममूल पेन्शन/पारिवारिक पेन्शन का 40 प्रतिशत प्रतिमाह
95 वर्ष परन्तु 100 वर्ष से कममूल पेन्शन/पारिवारिक पेन्शन का 50 प्रतिशत प्रतिमाह
100 वर्ष या उससे अधिकमूल पेन्शन/पारिवारिक पेन्शन का 100 प्रतिशत प्रतिमाह

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स