Searching...
Friday, October 16, 2020

यूपी : राज्य कर्मचारियों के लिए स्पेशल फेस्टिवल पैकेज व उसके लिए अग्रिम की सुविधा प्रदान किये जाने हेतु शासनादेश जारी

दस लाख राज्य कर्मियों को त्योहारों पर सौगात, मिलेगा स्पेशल कैश पैकेज, बाजार में मांग बढ़ाने की कोशिश


खुशखबरी: राज्य कर्मियों के लिए फेस्टिवल एडवांस व स्पेशल कैश पैकेज का ऐलान

यूपी : राज्य कर्मचारियों के लिए स्पेशल फेस्टिवल पैकेज व उसके लिए अग्रिम की सुविधा प्रदान किये जाने हेतु शासनादेश जारी




मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य कर्मियों को इस त्योहारी सीजन में फेस्टिवल एडवांस तथा एलटीसी के बदले स्पेशल कैश पैकेज देने का फैसला ऐलान किया है। फेस्टिवल एडवांस से राज्य के 15.20 लाख राज्यकर्मी लाभान्वित होंगे। स्पेशल कैश पैकेज का लाभ उन कर्मचारियों को मिलेगा जो 31 मार्च तक एलटीसी पाने के


हकदार हैं। दोनों योजनाओं का लाभ 31 मार्च 2021 से पहले ही राज्यकर्मियों को मिल जाएगा। कर्मचारी की मांग पर विभागाध्यक्ष किसी भी महत्वपूर्ण त्योहार से पहले फेस्टिवल एडवांस देने का आदेश करेंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में शुक्रवार को कैबिनेट बाईसर्कुलेशन ये अहम फैसला किया गया। केंद्र सरकार द्वारा केंद्रीय कर्मचारियों के लिए स्पेशल फेस्टिवल पैकेज तथा एलटीसी के पदले स्पेशल कैश पैकेज देने की घोषणा के बाद राज्य सरकार ने अपने कर्मचारियों को भी इन दोनों योजनाओं से नवाजा है। 


अग्रिम स्पेशल फेस्टिवल पैकेजइस योजना का लाभ राज्य सरकार के सभी कर्मचारियों को मिलेगा। 31 मार्च 2021 तक योजना लागू रहेगी। कार्यालयाध्यक्ष किसी भी महत्वपूर्ण त्योहार से पूर्व कर्मचारियों को 10 हजार रुपये का अग्रिम फेस्टिवल पैकेज स्वीकृत करेंगे। इस पैकेज पर ब्याज नहीं लगेगा। योजना पर राज्य सरकार के खजाने से करीब 1000 करोड़ रुपये का भार पड़ेगा। 


एसबीआई के प्री-लोडेड रू-पे कार्ड से मिलेगी धनराशिअग्रिम धनराशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के माध्यम से प्री लोडेड रू पे कार्ड द्वारा दी जाएगी। दस किस्तों में यह धनराशि वसूली जाएगी। कर्मचारियों का प्रार्थना पत्र मिलने पर कार्यालयाध्यक्ष एसबीआई से रू पे कार्ड लेकर आवेदक कर्मचारी को देंगे। कार्यालयाध्यक्ष द्वारा उन सभी त्योहारों के लिए अग्रिम स्वीकृत कर सकेंगे जो उत्तर प्रदेश शासन द्वारा घोषित सार्वजनिक / निबंधित अवकाश की सूची में शामिल हैं। इस फैसले को लागू करने के बाद यदि कोई कठिनाई आती है तो उसका निराकरण और भुगतान की प्रक्रिया का निर्धारण मुख्यमंत्री के अनुमोदन से किया जाएगा। 


एलटीसी के बदले स्पेशल कैश पैकेज केंद्र सरकार के कर्मचारियों की तरह सरकार राज्य सरकार के कर्मचारियों को भी एलटीसी सुविधा के बदले स्पेशल कैश पैकेज देगी। मंत्रिपरिषद ने इस प्रस्ताव को भी मंजूरी दी है। इस सुविधा का लाभ उन कर्मचारियों को मिलेगा जो पूर्व में जारी शासनादेशों के मुताबिक 31 मार्च 2021 तक एलटीसी सुविधा पाने के हकदार हैं। इस योजना में राज्य सरकार पर लगभग 960 करोड़ रुपये का व्यय भार आएगा।इस सुविधा के तहत कर्मचारी को गंतव्य स्थान तक जाने और वापस आने के लिए 6000 रुपये प्रति व्यक्ति की दर से डीम्ड किराया दिया जाएगा। कर्मचारी सहित परिवार के अधिकतम चार पात्र सदस्यों के लिए सुविधा मान्य होगी। 


संबंधित कर्मचारी को स्वीकृत धनराशि की तीन गुना धनराशि डिजिटल मोड से जीएसटी में पंजीकृत वेंडर्स / सेवा प्रदाताओं से खरीद करनी होगी। खरीदी गई वस्तुओं पर जीएसटी की दर न्यूनतम 12 फीसदी होनी चाहिए। स्पेशल कैश पैकेज के रूप में स्वीकृत धनराशि की प्रतिपूर्ति के लिए कर्मचारी को खरीदी गई वस्तुओं के रसीद जिसमें जीएसटी संख्या और भुगतान किए गए जीएसटी का जिक्र हो उसे प्रस्तुत करना होगा। कर्मचारी को अनुमन्य एलटीसी के डीम्ड किराये की धनराशि का 50 प्रतिशत अग्रिम के रूप में उसके बैंक खाते में भुगतान किया जा सकता है। जिसका समायोजन वस्तुओं के क्रय का वाउचर प्रस्तुत करने पर उसे किए जाने वाले अंतिम भुगतान से किया जाएगा।


 इस प्रकार के दावों का समायोजन वर्तमान वित्तीय वर्ष में ही कराना होगा। अग्रिम का प्रयोग नहीं करने या कम प्रयोग करने की स्थिति में उपयोग नहीं किए गए अथवा कम उपयोग पर अग्रिम की वसूली दंड ब्याज के साथ की जाएगी। स्पेशल कैश पैकेज पर एलटीसी की तरह ही आयकर के नियम लागू होंगे। सेवाकाल में तीन बार मिलता है एलटीसी का लाभराज्यकर्मियों को अपनी पूरी सेवाकाल में तीन बार एलटीसी सुविधा का लाभ मिलता है। इस सुविधा के तहत कर्मचारी अपने परिवार के अधिकतम चार सदस्यों के टूर के किराये-भाड़े का क्लेम करता है। जिसका भुगतान राज्य सरकार करती है। 


फेस्टिवल एडवांस-
15.20 लाख राज्य कर्मचारियों को मिलेगा बिना ब्याज फेस्टिवल एडवांस
-10 हजार रुपये प्रत्येक कर्मचारी को मिलेगा फेस्टिवल एडवांस-1000 करोड़ रुपये का भार आएगा सरकार के खजाने पर 
-दशहरा, दीपावली से लेकर होली तक कर्मचारी यह धनराशि ले सकेंगे
-एसबीआई के माध्यम से प्री-लोडेड रू पे कार्ड के रूप में दी जाएगी
--एलटीसी के बदले स्पेशल कैश पैकेज-6000 रुपये प्रति व्यक्ति की दर से डीम्ड किराया देगी सरकार
-कर्मचारी सहित अधिकतम चार व्यक्तियों के लिए -स्वीकृत धनराशि से तीन गुनी धनराशि डिजिटल मोड से जीएसटी में पंजीकृत वेन्डर्स/सेवा प्रदाताओं के माध्यम खर्च करना होगा, जिसमें कम से कम 12 फीसदी जीएसटी हो।
-स्वीकृत धनराशि की प्रतिपूर्ति खरीददारी वाउचर, जिसमें जीएसटी संख्या और भुगतान किए गए जीएसटी धनराशि अंकित होने पर ही की जाएगी।
 -इस योजना से राज्य सरकार के खजाने पर 960 करोड़ रुपये का भार पड़ेगा।

 
लखनऊ: त्योहारों के मौके पर बाजार में मांग बढ़ाकर आर्थिक गतिविधियों को रफ्तार देने के उद्देश्य से केंद्र की तर्ज पर योगी सरकार भी राज्य कर्मचारियों को स्पेशल फेस्टिवल पैकेज के रूप में 10,000 रुपये और अवकाश यात्र सुविधा (एलटीसी) के बदले स्पेशल कैश पैकेज देने जा रही है। एलटीसी के बदले स्पेशल कैश पैकेज के तहत कर्मचारी को 24,000 रुपये दिये जाएंगे। प्रदेश में 10 लाख राज्य कर्मचारी हैं जिन्हें त्योहारी सीजन में यह सौगात मिलेगी। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद वित्त विभाग ने प्रस्ताव तैयार कर लिए हैं जिन्हें जल्द ही कैबिनेट से मंजूरी दिलाई जाएगी।


एलटीसी के एवज में दिये जाने वाले स्पेशल कैश पैकेज में राज्य कर्मचारी को प्रति व्यक्ति 6000 रुपये रेल का किराया के हिसाब से अधिकतम चार लोगों के लिए 24,000 रुपये दिये जाएंगे। यह राशि दो किस्तों में दी जाएगी। एलटीसी के एडवांस के तौर पर 12,000 रुपये की धनराशि कर्मचारी के खाते में डाल दी जाएगी। कर्मचारी को एलटीसी कैश पैकेज की कुल रकम यानी 24,000 रुपये की तीन गुना राशि 72,000 रुपये उन लग्जरी वस्तुओं की खरीद पर 31 मार्च 2021 तक खर्च करनी होगी जिन पर जीएसटी 12 प्रतिशत या उससे ज्यादा है।

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स