Searching...
Monday, September 7, 2020

SBI लाएगा वीआरएस योजना, 30 हजार कर्मचारी होंगे बाहर

5:47 AM
30 हजार कर्मचारियों को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति देगा

SBI लाएगा वीआरएस योजना, 30 हजार कर्मचारी होंगे बाहर

नयी दिल्ली। अपनी लागत को कम करने के लिए देश का सबसे बड़ा बैंक एसबीआई स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (Voluntary Retirement Scheme) या वीआरएस लेकर आएगा। इस वीआरएस के तहत बैंक के 30,190 कर्मचारी पात्र होंगे। पात्र कर्मचारी इस योजना को चुन कर रिटायरमेंट ले सकेंगे। एसबीआई के कर्मचारियों की संख्या मार्च 2020 के अंत में 2.49 लाख थी, जबकि एक साल पहले इसके पास 2.57 लाख कर्मचारी थे। एसबीआई ने वीआरएस के लिए एक मसौदा योजना तैयार की है और इसके लिए बोर्ड की मंजूरी का इंतजार है।

क्या है एसबीआई का प्लान इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार प्रस्तावित योजना 'सैकंड इनिंग्स टैप वीआरएस-2020' से बैंक का उद्देश्य मानव संसाधन और बैंक की लागत को सुधारना है। इसके अलावा इस योजना से उन कर्मचारियों को एक विकल्प और बैंक से रियाटरमेंट का एक सम्मानजनक रास्ता मिलेगा, जो अपने करियर में अच्छे स्तर तक पहुंच गए हैं या संभवत: वे अपने प्रदर्शन के उच्चतम स्तर नहीं पहुंच सकते या जिनके कुछ व्यक्तिगत मुद्दे हैं या वे कर्मचारी जो बैंक के बाहर अपने पेशेवर या निजी जीवन में कुछ करना चाहते हैं।


क्या होगा कर्मचारियों के लिए नियम यह योजना उन सभी स्थायी अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए शुरू की जाएगी, जिन्होंने सेवा में 25 साल पूरे कर लिए हैं या कट-ऑफ की तारीख पर 55 साल की आयु पूरी कर ली है। यह योजना 1 दिसंबर को खुलेगी और फरवरी के अंत में बंद होगी। इस अवधि के दौरान ही वीआरएस के लिए आवेदन स्वीकार किए जाएंगे। प्रस्तावित पात्रता मानदंड के अनुसार कुल 11,565 अधिकारी और 18,625 कर्मचारी सदस्य योजना के लिए पात्र होंगे। बैंक के लिए कुल शुद्ध बचत 1,662.86 करोड़ रुपये होगी यदि 30 प्रतिशत पात्र कर्मचारी जुलाई 2020 के वेतन के आधार पर इस योजना के तहत सेवानिवृत्ति का विकल्प चुनते हैं

क्या होगा कर्मचारियों को फायदा वे स्टाफ सदस्य जिसका वीआरएस के तहत सेवानिवृत्ति के लिए किया गया अनुरोध स्वीकार किया जाएगा उसे रिटायरमेंट तक की बाकी अवधि के लिए वेतन का 50 प्रतिशत का अनुग्रहपूर्वक भुगतान किया जाएगा। इसमें अंतिम सैलेरी के आधार पर अधितम 18 महीनें रखे जाएंगे। वीआरएस पाने वाले कर्मचारियों को ग्रेच्युटी, पेंशन, पीएफ और चिकित्सा लाभ जैसे अन्य बेनेफिट दिए जाएंगे। इस योजना के तहत सेवानिवृत्त होने वाला स्टाफ सदस्य सेवानिवृत्ति की तारीख से दो साल की कूलिंग-ऑफ अवधि के बाद बैंक में फिर शामिल होने या रोजगार पाने योग्य होगा। 2017 में पांच सहयोगी बैंकों का एसबीआई के साथ हुआ था, जिसके बाद विलय हुए बैंकों ने अपने कर्मचारियों के लिए वीआरएस की घोषणा की थी

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स