Searching...
Thursday, August 5, 2021

प्रदेश की 58,189 ग्राम पंचायतों में जल्द लागू होगा सिटीजन चार्टर, विकास की गति के साथ भ्रष्टाचार पर लगेगा लगाम

प्रदेश की 58,189 ग्राम पंचायतों में जल्द लागू होगा सिटीजन चार्टर, विकास की गति के साथ भ्रष्टाचार पर लगेगा लगाम

गांवों का विकास कराने के साथ ही ग्राम पंचायतें जनसुविधाओं के प्रति भी जवाबदेह होंगी। सरकार सभी 58,189 ग्राम पंचायतों में सिटीजन चार्टर लागू करने जा रही है, इसमें संबंधित सुविधा का समयबद्ध निस्तारण हो सकेगा। शासन ने माडल सिटीजन चार्टर जारी कर दिया है। ग्राम पंचायतों को इसमें कुछ सुविधाओं का चयन करके 15 अगस्त तक लागू करना होगा।

प्रदेश सरकार ‘मेरी पंचायत, मेरा अधिकार जन सेवाएं हमारे द्वार’ अभियान शुरू कर रही है। इसमें गांव की सरकार को आम लोगों के प्रति जवाबदेह बनाने की योजना है। लोगों को यह पता होगा कि इस सुविधा का लाभ या समस्या का निस्तारण इतने दिनों में हो जाएगा। यह पहल सिटीजन चार्टर के तहत हो रही है। मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने पंचायतीराज विभाग सहित सभी जिलों को आदेश कर दिया है कि वे हर ग्राम पंचायत में सिटीजन चार्टर को लागू कराएं। विभाग ने इसके लिए माडल सिटीजन चार्टर भी तैयार कराया है, जिसमें कई जनसुविधाओं का उल्लेख है। ग्राम पंचायतें अपनी सहूलियत से उसे अपना सकती हैं। ग्राम पंचायतों को स्वतंत्रता दिवस पर गांवों के पंचायत भवन पर सिटीजन चार्टर की सूची और निस्तारण की अवधि की सूचना चस्पा करनी होगी।

पंचायतें कर सकती हैं संशोधन
शासन ने माडल सिटीजन चार्टर में प्रशासनिक, विकास, पेयजलापूर्ति, स्वच्छता-साफ सफाई, सामुदायिक संपत्ति, समाज कल्याण, शिक्षा, स्वास्थ्य, कोविड व डिजिटल की करीब 39 सुविधाओं का उल्लेख किया है। पंचायतें इनमें से कुछ या फिर इसके अलावा अन्य सुविधाएं दे सकती हैं।


प्रदेश की 58,189 ग्राम पंचायतों में सिटीजन चार्टर लागू होने जा रहा है, इसकी घोषणा पंचायतें 15 अगस्त तक करेंगी। इससे पहले ‘मेरी पंचायत, मेरा अधिकार-जनसेवाएं हमारे द्वार’ अभियान शुरू हो चुका है। सिटीजन चार्टर लागू होना ऐसा क्रांतिकारी कदम है जो विकास की एक नई गाथा लिखेगा।

 गांवों में इससे न केवल विकास को गति मिलेगी, बल्कि भ्रष्टाचार उन्मूलन का भी यह बहुत सशक्त अस्त्र बनेगा। ग्राम पंचायतों में सिटीजन चार्टर लागू होने से इससे संबंधित सभी सुविधाएं समयबद्ध रूप से मिलेंगी। मतलब स्पष्ट है कि गांव की सरकार को आमलोगों के प्रति जवाबदेह बनना होगा। जिस समस्या का निस्तारण जितने दिन के भीतर करना है, वह करना ही होगा। अन्यथा की स्थिति में स्पष्ट कारण बताना होगा।

पंचायत विभाग ने जो माडल सिटीजन चार्टर तैयार कराया है, उसमें 39 जनसुविधाओं का उल्लेख है। पंचायतों को स्वाधीनता दिवस पर गांवों के पंचायत भवन पर सिटीजन चार्टर की सूची और निस्तारण की अवधि की सूचना चस्पा करनी होगी। शहर हों या गांव भ्रष्टाचार की सबसे बड़ी वजह होती है, सरकारी कार्यालयों में काम को बेवजह लटकाना। इसका असर सरकार के कामकाज और छवि पर भी पड़ता है। लेकिन योगी सरकार ने जिस तरह से विभिन्न दिशाओं में सुधारात्मक कदम उठाए हैं, वे मील के पत्थर साबित होंगे। इस लकीर को पार करना बाद में आने वाली हर सरकार के लिए चुनौती होगी। 

निश्चित रूप से अभी भले ही इस व्यवस्था के क्रियान्वयन या कामकाज के तौर तरीके को लेकर अंगुली उठे, लेकिन समय के साथ-साथ ज्यों ज्यों लोगों में इसको लेकर जागरूकता बढ़ेगी इसका असर भी साफ दिखने लगेगा। परिभाषित सेवाओं के निष्पादन और समस्याओं के निस्तारण की समयबद्धता व्यवस्था को लेकर निराश लोगों में एक नए उत्साह का संचार करेगी। यह बहुत ही सराहनीय कदम है, लेकिन साथ ही ग्राम पंचायतों में इसका क्रियान्वयन भी उचित ढंग से और पूरी कड़ाई के साथ हो, सरकार को यह भी ध्यान रखना पड़ेगा। समय के साथ-साथ इसमें जो कमियां सामने आएं, उन्हें चिह्नित करके दूर भी करना होगा, तभी इसका उचित लाभ लोगों को मिल पाएगा।

भ्रष्टाचार की सबसे बड़ी वजह होती है, सरकारी कार्यालयों में काम को बेवजह लटकाना। इसका असर सरकार के कामकाज और छवि पर भी पड़ता है

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स