Searching...
Friday, January 15, 2021

यूपी : दिन गिनकर भुगतान से होमगार्डों को 7,000 तक नुकसान संभव

यूपी : दिन गिनकर भुगतान से होमगार्डों को 7,000 तक नुकसान संभव


सचिवालय प्रशासन विभाग के नए आदेश से मंत्रियों व अफसरों के यहां ड्यूटी करने वाले होमगार्ड व पीआरडी जवानों को करीब 7,000 रुपये महीने तक नुकसान का खतरा खड़ा हो गया है। इससे होमगार्ड जवानों में जबर्दस्त नाराजगी है।


शासन में आवश्यकतानुसार मंत्रियों व अफसरों के कार्यालयों तथा अनुभागों में बड़ी संख्या में होमगार्ड व पीआरडी जवानों की तैनाती होती है। ये ऑफिस कार्य में सहयोग से लेकर पत्रावलियों को लाने-ले जाने तक का काम करते हैं। कई अफसरों व मंत्रियों के आवास पर भी इनकी ड्यूटी लगती है। तैनाती वाले विभाग संविदा या आउटसोर्स से तैनात कर्मियों की तरह होमगार्ड व पीआरडी कर्मियों की ड्यूटी प्रमाणित कर पूरे महीने के लिए भुगतान का प्रस्ताव क्रमश: होमगार्ड विभाग व युवा कल्याण विभाग को भेजा जाता है। इसके बाद वहां से इनका भुगतान किया जाता है। इससे होमगार्ड कर्मियों को महीने में करीब 21 हजार रुपये मिलते हैं।


मगर, सचिवालय प्रशासन विभाग ने शनिवार, रविवार या सार्वजनिक अवकाशों में होमगार्ड व पीआरडी जवानों से ड्यूटी लिए जाने पर मस्टररोल पर नोट के रूप में विशेष रूप से उल्लेख करना अनिवार्य कर दिया है। ऐसा न किए जाने पर ड्यूटी प्रमाणित करने वाले कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की चेतावनी दी है। इससे विभागों के ड्यूटी प्रमाणित करने की जिम्मेदारी से जुड़े कर्मी शनिवार, रविवार व सार्वजनिक अवकाश के दिनों की ड्यूटी प्रमाणित करने से इनकार की बात करने लगे हैं। महीने में शनिवार व रविवार के रूप में आठ छुट्टियां व औसतन एक से दो सार्वजनिक अवकाश पड़ने से होमगार्ड के कार्यदिवस में औसत 10 दिनों की कटौती हो सकती है। इससे 7,000 रुपये तक मानदेय कम हो जाएगा।


होमगार्डों को आर्थिक चुनौतियों की चिंता
नाम न छापने के आग्रह के साथ होमगार्ड जवानों का कहना है कि वह भी अन्य कर्मियों की तरह सचिवालय में सुबह साढ़े नौ बजे से शाम छह बजे तक ड्यूटी करते हैं। इसी वजह से उन्हें अन्य कर्मियों की तरह सप्ताह में दो दिन की छुट्टी मिलती रही है। जरूरत पर वह अन्य कर्मियों से हटकर देर तक ड्यूटी करते हैं। छुट्टी व सार्वजनिक अवकाश के दिनों में भी बुलाने पर आते हैं। लेकिन, नए आदेश के बाद ड्यूटी कराने के बावजूद कोई भी छुट्टी व सार्वजनिक अवकाश की ड्यूटी प्रमाणित नहीं करेगा। आनाकानी करने पर ड्यूटी से ही हटाए जाने की नौबत आ जाएगी। इस तरह मानदेय निर्धारण से उनके सामने आर्थिक संकट खड़ा हो जाएगा।


जिलों में भी असर संभव
जिलों में कलेक्टर आवास व कार्यालय से लेकर तमाम दफ्तरों में आवश्यकतानुसार होमगार्ड व पीआरडी जवानों का सहयोग लिया जाता है। कार्यदिवस गिनकर मानदेय भुगतान से जिलों में भी तैनात कर्मियों पर भी इसका असर पड़ेगा।

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स