Searching...
Saturday, January 18, 2020

1.5 लाख रु के ऊपर टैक्स बचाने के टॉप 5 विकल्प, जानें डिटेल

12:47 AM

नयी दिल्ली। टैक्स बचाना कौन नहीं चाहेगा। आप भी अलग-अलग तरीकों से टैक्स बचाने का प्रयास करते होंगे। इनमें निवेश करके टैक्स बचाना की कोशिश करना काफी आम बात है। अधिकतर लोग यह निवेश अपनी फाइनेंशियल प्लानिंग के तहत फ्यूचर की सुरक्षा के लिए करते हैं। वहीं लोग लगभग हमेशा ही सेक्शन 80 सी के तहत टैक्स बेनेफिट लेने पर ध्यान लगाये रहते हैं। मगर क्या आप जानते हैं कि ऐसे कई सेक्शन हैं, जिनके अंतर्गत इनकम टैक्स की बचत करना संभव है। हम आपको बताते हैं ऐसे ही 5 खास विकल्प, जिनके जरिये आप 1.5 लाख रुपये के ऊपर टैक्स बचा सकते हैं। इनमें सबसे पहले आता है स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम। यदि आप स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम का भुगतान कर रहे हैं, तो सेक्शन 80 डी के तहत टैक्स कटौती का क्लेम जरूर करें। 25,000 रुपये की राशि टैक्स ब्रेक के योग्य होती है, जबकि वरिष्ठ नागरिकों के मामले में यह 30,000 रुपये तक बढ़ जाती है। इस सेक्शन के तहत छूट की सीमा केवल 60,000 रुपये पर निर्धारित की गई है। आइये जानते हैं ऐसे 4 अन्य विकल्पों के बारे में।



राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (एनपीएस)

क्या आप जानते हैं कि यदि आप राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली या एनपीएस में निवेश करते हैं, तो आपकी एनपीएस के तहत 50,000 रुपये तक के निवेश पर अतिरिक्त टैक्स बचत होती है। सरकार ने यह योजना 2009 में शुरू की थी और आप 50,000 रुपये तक के निवेश के लिए सब-सेक्शन 80 सीसीडी (1 बी) के तहत अतिरिक्त टैक्स कटौती के योग्य हो जाते हैं। इसे 80 सी के तहत टैक्स बेनेफिट के साथ नहीं जोड़ा जाता, जिसमें आपको अलग से 1.5 लाख रुपये तक के निवेश पर लाभ मिलता है। एनपीएस सार्वजनिक, निजी और यहां तक कि असंगठित क्षेत्रों के कर्मचारियों के लिए भी है। टैक्स बचाने के लिए एक अच्छा विकल्प है, मगर इसकी निवेश प्रकृति लंबी अवधि की है।

एजुकेशन लोन पर ब्याज पर सेक्शन 80 ई के तहत टैक्स बेनेफिट

अगर आपने अपने बच्चे या खुद अपने लिए ही एजुकेशन लोन लिया है, तो आप सेक्शन 80 ई के तहत टैक्स बेनेफिट का दावा कर सकते हैं। एजुकेशन लोन पर ब्याज टैक्स छूट के लिए योग्य है। इसका मतलब है कि यह बेनेफिट बच्चे के साथ-साथ माता-पिता के लिए भी है। हालांकि यहां एक लिमिट है कि इस तरह की कटौती का दावा करने के लिए अधिकतम समयावधि 8 वर्ष है। इस तरह की कटौती का दावा केवल व्यक्तिगत आधार पर किया जा सकता है। हिंदू यूनाइटेड फैमिली को इसकी अनुमति नहीं है। एक सवाल यहां बनता है कि छूट के लिए ब्याज की सीमा क्या है? जवाब है फिलहाल ऐसी कोई सीमा नहीं है।
 

बचत खाता ब्याज और सेक्शन 80 जी के तहत दान

यह जानना जरूरी है कि बैंक एफडी पर ब्याज, टैक्स छूट के लिए बिल्कुल भी योग्य नहीं है। हालांकि अगर आपको बचत खाते पर ब्याज मिले तो वो टैक्स छूट के लिए योग्य हैं। मगर यहां सीमा 10,000 रुपये तक ही सीमित है। इसका मतलब यह है कि यदि बचत बैंक खाते में आपकी ब्याज आय 10,000 रुपये से अधिक है, तो आपको उसी पर टैक्स का भुगतान करना होगा। वहीं यदि आप केंद्र सरकार द्वारा अधिसूचित संस्थानों या संगठनों को डोनेशन करते हैं, तो आप टैक्स छूट के पात्र होंगे। सरकार द्वारा अधिसूचित कुछ फंडों में प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष, राष्ट्रीय रक्षा कोष, जवाहरलाल नेहरू स्मारक निधि, प्रधानमंत्री सूखा राहत कोष शामिल हैं।

 

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स