Searching...
Thursday, October 25, 2018

मुख्य कोषाधिकारी ने राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली की गिनाई विशेषता, पूरे सेवाकाल में तीन बार रकम की निकासी, रिटायरमेंट पर 40 फीसद पेंशन का करना होगा निवेश



जरूरत पर मिल सकती है रकम, कर्मचारी की बीमारी, बच्चों का विवाह, उच्चतर शिक्षा, मकान जैसी आकस्मिक परिस्थितियों के लिए एनपीएस खाते में से आंशिक प्रत्याहरण की सुविधा भी दी गई है। पूरे सेवाकाल में तीन बार रकम की निकासी हो सकती है। प्रत्याहरण के लिए अनिवार्य 10 वर्ष की अवधि को घटाकर 3 वर्ष कर दिया गया है। 


आयकर में छूट का भी प्रावधान आयकर अधिनियम में पुरानी पेंशन योजना के अधीन ग्राह्य जीपीएफ सहित सभी तरह की बचतों पर अधिकतम 1.50 लाख रुपये तक की छूट अनुमन्य है, जबकि की एनपीएस के तहत इस छूट की अधिकतम सीमा दो लाख रुपये है। राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली से निकासी पर एन्युटी की खरीद के लिए निवेशित न्यूनतम 40 प्रतिशत धनराशि आयकर से मुक्त होगी। शेष 60 प्रतिशत तक नकद भुगतान की धनराशि का 40 प्रतिशत भी आयकर से मुक्त होगा।


जागरण संवाददाता, गोरखपुर : सेवानिवृत्ति के समय कर्मचारियों को किसी भी मान्यता प्राप्त कंपनी से एक पॉलिसी खरीद कर अपनी पेंशन संपत्ति का 40 फीसद उसमें निवेश करना होगा, जिससे कि पेंशन की की जा सके। 60 प्रतिशत पेंशन का भुगतान कर्मचारियों को किया जाएगा। पीएफआरडीए ने पेंशन संबंधी ओं के लिए एनपीएस ट्रस्ट का गठन किया है। राज्य सरकार की ओर से नई पेंशन प्रणाली के अनुश्रवण के लिए निदेशक पेंशन को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। 


मुख्य कोषाधिकारी ने बताया कि एनपीएस में आने वाले कर्मचारियों को भी पुराने राजकीय कर्मचारियों के समान ग्रेच्युटी, अवकाश नकदीकरण, सामूहिक बीमा एवं चिकित्सा व्यय पूर्ति जैसे लाभ अनुमन्य हो रहे हैं। ऐसे कर्मचारी जिनका ‘प्रान’ (परमानेंट रिटायरमेंट एकाउंट नंबर) नहीं है या कटौती शुरू नहीं हुई है और सेवाकाल के दौरान मृत्यु होने पर उनके आश्रितों को भी पारिवारिक पेंशन की सुविधा मिल रही है। एनपीएस से आच्छादित कर्मचारी की सेवाकाल में मृत्यु हो जाने पर उनके आश्रितों को पुरानी पेंशन योजना के अनुरूप पारिवारिक पेंशन अथवा एनपीएस के तहत भुगतान का विकल्प उपलब्ध है। पीएफआरडीए के मुताबिक पेंशन खाते में जमा धनराशि का लगभग 86 प्रतिशत का निवेश पूर्णतया सुरक्षित सरकारी प्रतिभूतियों तथा शेष 14 प्रतिशत का निवेश उच्च रिटर्न करने वाली जगहों पर हुआ है, जिस पर औसतन अब तक 9 प्रतिशत वार्षिक से अधिक रिटर्न प्राप्त हो रहा है।’>>सेवानिवृत्ति के बाद कंपनी करेगी पारिवारिक पेंशन का इंतजाम

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स