Searching...
Tuesday, October 23, 2018

पुरानी पेंशन बहाली का मामला : कर्मचारी हड़ताल के समर्थन में आये कई नए संगठन, वार्ता के सार्थक परिणाम न निकलने के बाद 25 से 27 अक्टूबर तक हड़ताल हुई पक्की

■  पुरानी पेंशन बहाली का मामला : कर्मचारी हड़ताल के समर्थन में आये कई नए संगठन,  वार्ता के सार्थक परिणाम न निकलने के बाद 25 से 27 अक्टूबर तक हड़ताल हुई पक्की


■  हड़ताल पर आज अंतिम फैसला लेंगे सचिवालय कर्मचारी,  फ़ोन पर भी नहीं मानेंगे कोई निर्देश, देंगे डीएम के माध्यम से ज्ञापन


■  प्रादेशिक विकास सेवा संघ व प्रादेशिक निबंधन सेवा संघ भी करेंगे हड़ताल



लखनऊ : पुरानी पेंशन योजना बहाल कराने के लिए हड़ताल की ओर बढ़ रहे कर्मचारी संगठनों को सोमवार को प्रादेशिक विकास सेवा संघ व प्रादेशिक निबंधन सेवा संघ के तौर पर दो और बड़े संगठनों का साथ मिल गया है। इस संगठनों के समर्थन के बाद कर्मचारी, शिक्षक व अधिकारी पुरानी पेंशन बहाली मंच ने हड़ताल में सीडीओ, बीडीओ, डीडीओ, रजिस्ट्रार व निबंधन संवर्ग के अधिकारियों के भी शामिल होने का दावा किया है। उप मुख्यमंत्री डॉ.दिनेश शर्मा से लेकर मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय तक से हुई वार्ता के सार्थक परिणाम न निकलने के बाद मंच के पदाधिकारियों ने 25 से 27 अक्टूबर तक निश्चित रूप से हड़ताल करने का दावा किया है।



मंच के अध्यक्ष डॉ.दिनेश चंद शर्मा ने सोमवार को बताया कि हड़ताल के लिए प्रदेश के जिलों से लेकर तहसील स्तर तक जनजागरण शुरू कर दिया गया है। सोमवार को कर्मचारी नेताओं ने लखनऊ के मलिहाबाद व बक्शा का तालाब में जनजागरण कार्यक्रम चलाया। मंच के संयोजक हरिकिशोर तिवारी व महामंत्री संजय सिंह सहित अन्य पदाधिकारियों ने हड़ताल में शामिल होने वाले संगठनों से केंद्रीय या जिला स्तर पर अधिकारियों को हड़ताल का नोटिस उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है।



फोन पर भी नहीं लेंगे कोई निर्देश : कर्मचारियों व शिक्षकों को निर्देश दिया गया है कि तीन दिवसीय हड़ताल में वह न तो कोई काम करें, न अधिकारियों से मिलें और न ही फोन पर अधिकारियों का कोई निर्देश प्राप्त करें। संगठनों को हड़ताल से एक दिन पहले 24 अक्टूबर को मोटरसाइकिल रैली निकालकर हर जिले में कर्मचारियों के बीच जनजागरण कार्यक्रम चलाने और तीन दिन की हड़ताल के प्रत्येक दिन शाम छह बजे समीक्षा करने के निर्देश दिए गए। विद्यालयों में भोजन वितरण में शिक्षक सहयोग नहीं करेंगे। 27 अक्टूबर को हड़ताल के तीसरे दिन उच्चाधिकार समिति की बैठक में अनिश्चितकालीन हड़ताल का निर्णय लिया जाएगा।



सभी डीएम को देंगे ज्ञापन : हड़ताल के पहले दिन 25 अक्टूबर को कर्मचारी व शिक्षक हर जिले में 50 सदस्यों की टोली बनाकर मोटरसाइकिल जुलूस निकालेंगे और सभी कार्यालयों में जाकर जनजागरण करेंगे। 26 व 27 अक्टूबर को दूसरे व तीसरे दिन कार्यालयों में सुबह दस बजे जनजागरण होगा, शाम चार बजे विकास भवन व सार्वजानिक कार्यालयों में एकत्र होकर कर्मचारी पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर नारेबाजी करेगे।



27 अक्टूबर को हड़ताल के अंतिम दिन काला फीता बांधकर और पुरानी पेंशन बहाली की तख्तियां लेकर सामूहिक रूप से कर्मचारी जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचेंगे और जिलाधिकारी के जरिये मुख्यमंत्री को पुरानी पेंशन बहाली का ज्ञापन भेजेंगे। कर्मचारियों को हड़ताल के दौरान तोड़फोड़, मारपीट और झगड़े से बचने की हिदायत दी गई है।



सर्वोच्च न्यायालय की तो सुने सरकार : कर्मचारी नेताओं ने पेंशन की अनिवार्यता को लेकर अपील की है कि सरकार यदि उनकी नहीं सुन रही तो कम से कम सर्वोच्च न्यायालय की बात तो सुने। इस बाबत देवकी नंदन प्रसाद बनाम बिहार सरकार व अन्य के प्रकरण में सर्वोच्च न्यायालय की संविधान पीठ द्वारा दिए गए निर्णय के साथ उन्होंने डीएस नक्कारा व अन्य बनाम यूनियन ऑफ इंडिया के प्रकरण में भी सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिए गए निर्णय का हवाला दिया। कहा कि पेंशन सरकार की प्रसन्नता या इच्छा द्वारा दी जाने वाली भीख नहीं बल्कि सरकारी सेवक का महत्वपूर्ण सांविधानिक अधिकार है। सरकार को इसे वापस लेने का कोई अधिकार नही है। पेंशन प्राप्त करने का अधिकार अनुच्छेद 31(1) द्वारा संरक्षित है।



ड़ताल पर आज फैसला लेंगे सचिवालय कर्मचारी

लखनऊ : पुरानी पेंशन योजना बहाल करने की मांग को लेकर राज्य कर्मचारियों व शिक्षकों की हड़ताल को समर्थन देने पर सचिवालय के कर्मचारी-अधिकारी मंगलवार को निर्णय लेंगे। उप्र सचिवालय संघ ने इसे लेकर बापू भवन के द्वितीय तय स्थित सभाकक्ष में मंगलवार दोपहर डेढ़ बजे बैठक आयोजित की है। आठ अक्टूबर को हुई रैली के दौरान सचिवालय कार्मिकों ने अचानक बाहर निकलकर विधानभवन के सामने सड़क जाम कर दी थी।

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स