Searching...
Wednesday, April 4, 2018

एससी-एसटी ऐक्ट पर सुप्रीम कोर्ट अपने फैसले पर कायम, कहा : ऐक्ट कमजोर नहीं किया, निर्दोषों को सेफगार्ड दिया


दलितों पर हो रहे अत्याचारों और एससी-एसटी ऐक्ट को शिथिल करने के मुद्दों पर प्रधानमंत्री एक भी शब्द क्यों नहीं बोल रहे हैं/ लगता है आरएसएस ने उन्हें लाठी पकड़ना, निकर पहनना और झूठ बोलना सिखाया है।

- राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष• एनबीटी ब्यूरो, लखनऊ : भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने मंगलवार सुबह बसपा सरकार का 29 अक्टूबर 2007 का शासनादेश ट्वीट किया। उन्होंने सवाल किया कि सुप्रीम कोर्ट के जिस फैसले का मायावती विरोध कर रही हैं वैसा ही आदेश खुद मायावती ने अपनी सरकार में दिया था। 29 अक्टूबर 2007 को जारी शासनादेश में कहा गया था कि एससी-एसटी एेक्ट के तहत त्वरित न्याय दिलाने के साथ यह भी ध्यान रखा जाए कि किसी निर्दोष व्यक्ति को परेशान न किया जाए। इस पर बसपा के प्रदेश अध्यक्ष राम अचल राजभर का कहना है कि बहुत से कानूनों का दुरुपयोग होता है, क्या वे खत्म कर दिए जाते हैं।
भाजपा ने ट्वीट िकया माया का शासनादेश• एनबीटी ब्यूरो, लखनऊ : दलित संगठन यूपी में बुधवार को भी आंदोलन करेंगे। जिलों को हाई अलर्ट कर दिया गया है। हालांकि मंगलवार देर शाम तक किसी भी जिले में प्रशासन से प्रदर्शन की अनुमति नहीं मांगी गई है। अब तक सात िजलों में 660 लोगों के िखलाफ 125 मुकदमे दर्ज किए जा चुके है। आरोिपतों को िचह्नित कर उनकी िगरफ्तारी की जा रही है। एडीजी एलओ आनन्द कुमार ने बताया कि बुधवार को भी प्रदर्शन की सूचना है।
आज भी प्रदर्शन, हाई अलर्ट

25
1.92

प्रतिशत मामलों (औसतन) में दोष सिद्धि हुई (लोकसभा में सरकार ने बताया)

लाख से अधिक मामले दर्ज हुए दलित उत्पीड़न के पिछले पांच साल में

‘आरक्षण नीति बदलने की मंशा नहीं’
गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सफाई दी कि सरकार की एससी-एसटी के लिए मौजूदा आरक्षण पॉलिसी में बदलाव की कोई मंशा नहीं है। लोकसभा में उन्होंने कहा कि आरक्षण को लेकर फैलाई जा रही अफवाहें निराधार हैं। सरकार ने तो 2015 में इस कानून को ज्यादा मजबूत बनाया था। उधर, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार के भारत बंद को चुनावी राजनीति करार देते हुए कहा कि यह स्क्रिप्ट अब पुरानी हो चुकी है।
बड़े पैमाने पर हिंसा के दूसरे दिन मंगलवार को राजस्थान के करौली जिले के हिंडौन कस्बे में 5 हजार लोगों की भीड़ ने बीजेपी की विधायक राजकुमारी जाटव और कांग्रेस के पूर्व विधायक भरोसी लाल जाटव के घर जला दिए। दोनों दलित समुदाय से हैं। हिंडौन में आगजनी और हिंसा की घटनाओं के बाद करीब 40 लोगों को हिरासत में लिया गया। मध्य प्रदेश के ग्वालियर, भिंड, मुरैना में तनाव को देखते हुए कर्फ्यू अब भी जारी है। ग्वालियर में 50 दंगाइयों को हिरासत में लिया गया। हिंसा में दो घायलों ने दम तोड़ दिया है।
मेरठ में तनाव के बीच पुलिस ने फ्लैग मार्च किया
िहंसा जारी, बीजेपी िवधायक समेत 2 के घर फूंके
हम इस कानून के खिलाफ नहीं हैं। इसका विरोध कर रहे लोगों ने हो सकता है कि फैसला सही तरह से पढ़ा न हो - सुप्रीम कोर्ट• एनबीटी ब्यूरो, नई दिल्ली

एससी-एसटी (अनुसूचित जाति व जनजाति अत्याचार निरोधक कानून) ऐक्ट से जुड़े फैसले की रिव्यू पिटिशन पर केंद्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट से झटका लगा है। मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने मामले की खुली अदालत में सुनवाई करते हुए अपने फैसले पर स्टे देने से इनकार कर दिया। शीर्ष अदालत ने कहा कि वह विस्तार से इस मामले में दो हफ्ते बाद सुनवाई करेगी। 20 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने एससी/ एसटी ऐक्ट मामले में अग्रिम जमानत का प्रावधान किए जाने और एफआईआर से पहले छानबीन का आदेश दिया था। केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में रिव्यू पिटिशन दाखिल कर इस आदेश पर फौरन स्टे लगाने की मांग की थी। इस आदेश के बाद सोमवार को हुए भारत बंद के दौरान देशभर में भारी हिंसा हुई थी और 12 जानें चली गई थीं।

सुप्रीम कोर्ट की दो जजों की बेंच ने कहा कि एससी-एसटी ऐक्ट के प्रॉविजन से कोई छेड़छाड़ नहीं की गई है। बेंच ने कहा कि जो लोग इस फैसले का विरोध कर रहे हैं, हो सकता है कि उन्होंने फैसले को सही तरह से पढ़ा न हो। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह इस ऐक्ट के खिलाफ नहीं है, हमने सीआरपीसी के प्रावधान को पारिभाषित किया है और कानून का गलत इस्तेमाल न हो, इसके लिए सेफगार्ड दिया है। ऐक्ट का इस्तेमाल निर्दोष लोगों को आतंकित करने के लिए नहीं हो सकता। अदालत की नजर में निर्दोष लोगों के मौलिक अधिकार सर्वोपरि हैं। सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार की ओर से अटॉर्नी जनरल ने दलील पेश की और फैसले पर रोक लगाने की भी गुहार लगाई। वहीं कोर्ट सलाहकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश को सही ठहराया और कहा कि यह आदेश कहीं से भी एससी व एसटी ऐक्ट को कमतर नहीं करता। इसलिए किसी रिव्यू की जरूरत नहीं है।

कोर्ट ने कहा-हम कानूनी पहलू

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स