Searching...
Thursday, April 19, 2018

आयकर विभाग ने दी चेतावनी : सलाहकारों के फेर में गलत आइटीआर न भरें वेतनभोगी, नियोक्ताओं को दी जाएगी सूचना, की जाएगी कर्मचारियों पर कार्रवाई

■ आयकर बचाने के चक्कर में गलतबयानी नहीं करें वेतनभोगी करदाता,

■ नियोक्ताओं को दी जाएगी सूचना, की जाएगी कर्मचारियों पर कार्रवाई



नई दिल्ली  : आयकर विभाग ने वेतनभोगी आयकर दाताओं को जान-बूझकर गलत आयकर रिटर्न (आइटीआर) भरने के खिलाफ आगाह किया है। विभाग ने करदाताओं से कहा है कि वे कर बचाने के गैरकानूनी तरीकों का इस्तेमाल नहीं करें और आयकर सलाहकारों द्वारा सुझाए ऐसे तरीकों के फेर में मत उलङों।1विभाग ने कहा है कि कर बचाने के फेर में आय कम दिखाने वाले या निवेश बढ़ा-चढ़ाकर पेश करने वाले ऐसे कर्मचारियों की सूचना उनके नियोक्ताओं को दी जाएगी, और उनके खिलाफ कार्रवाई के लिए कहा जाएगा। विभाग के बेंगलुरु स्थित सेंट्रल प्रोसेसिंग सेंटर (सीपीसी) ने एक चेतावनी जारी की है। इसमें वेतनभोगी करदाताओं से ऐसे कर सलाहकारों और प्लानर्स से दूर रहने की हिदायत दी गई है, जो उन्हें कर चोरी के तरीके बताते हैं।


विभाग ने कहा है कि अगर सरकारी कर्मचारी इस तरह की गतिविधियों में लिप्त पाए जाते हैं, तो उनके खिलाफ सतर्कता विभाग कार्रवाई करेगा। गौरतलब है कि सीपीसी ही कर व्यक्तिगत आयकर दाताओं के कर प्रपत्रों की जांच करता है।विभाग का कहना है कि पिछले कुछ वर्षो के दौरान आइटीआर जांच के वक्त ऐसे कई उदाहरण आए हैं, जिनमें कर चोरी के तरीके स्पष्ट झलकते हैं। इनमें ज्यादातर मामले आय कम बताने, या आयकर बचाने के लिए निवेश की रकम बढ़ा-चढ़ाकर पेश करने से संबंधित हैं।


विभाग ने कहा कि इस तरह की गलतबयानी आयकर कानून की कई धाराओं के तहत दंडनीय अपराध हैं। इसके साथ ही ऐसे मामलों में रिफंड जारी करने में देरी हो सकती है।असल में इस वर्ष जनवरी में आयकर विभाग ने गलत आइटीआर भरकर ज्यादा रिफंड मांगने वाले एक टैक्स रैकेट का पर्दाफाश किया था। इसके तहत विभाग ने पाया कि बेंगलुरु-स्थित कई सूचना प्रौद्योगिकी (आइटी) कंपनियों के कुछ कर्मचारी कथित तौर पर एक कर सलाहकार के साथ मिलकर ज्यादा रिफंड मांगने संबंधित धोखाधड़ी कर रहे थे।


इस गठजोड़ की जांच के लिए केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआइ) ने मामला दर्ज कर लिया है।सलीके से पेश आएं अफसर1विभाग ने अधिकारियों को भी आयकर दाताओं से सलीके के साथ पेश आने की हिदायत दी है। इस सप्ताह सोमवार को जारी एक ताजा दिशानिर्देश में करदाता सेवा निदेशालय (टीपीएस) ने अधिकारियों से कहा है कि वे करदाताओं से बातचीत और अन्य संपर्को के दौरान शिष्टाचार से पेश आएं। टीपीएस ने कहा, ‘यह बेहद महत्वपूर्ण है कि अधिकारियों और कर्मचारियों का व्यवहार शिष्ट, विनम्र और शिकायत से परे हो।’

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स