Searching...
Wednesday, March 28, 2018

दो बालिगों की शादी कोई नहीं रोक सकता, प्यार करने वाले को धमकाया तो खैर नही : सुप्रीम कोर्ट,

कहा, खाप पंचायत या किसी और का दखल देना गैरकानूनी
टिप्पणी

अंतरजातीय और दूसरे धर्म में शादी करने वाले प्रेमी जोड़ों को सुरक्षा और संरक्षण देते हुए ने ऑनर किलिंग पर अहम फैसला सुनाया है। कोर्ट ने कहा कि दो वयस्कों की मर्जी से की गई शादी में खाप पंचायत या किसी और का दखल देना गैरकानूनी है। खाप पंचायत या किसी तरह की भीड़ कानून अपने हाथ में नहीं ले सकती। कोर्ट ने ऑनर किलिंग की घटनाएं रोकने के लिए विस्तृत दिशानिर्देश भी जारी किए हैं। ऑनर किलिंग रोकने के लिए कानून बनाने की सिफारिश करते हुए कोर्ट ने कहा कि जब तक कानून नहीं बनता कोर्ट के दिशानिर्देश लागू रहेंगे।1यह फैसला प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्र, एएम खानविल्कर और डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने ऑनर किलिंग और खाप पंचायतों के प्रेमी जोड़ों के खिलाफ फरमानों का मुद्दा उठाने वाले गैरसरकारी संगठन ‘शक्ति वाहिनी’ की याचिका का निपटारा करते हुए सुनाया। फैसले में अदालत ने कहा कि व्यक्ति की पसंद उसकी आजादी और आत्मसम्मान का अहम हिस्सा है। जब किसी की पसंद को आन के नाम कुचला जाता है और उसे शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया जाता है तो समाज सिहर उठता है। परिवार के बड़े या घराने धारणाओं और आवेश में पसंद के खिलाफ शादी करने वाले युवाओं का जीवन नहीं छीन सकते। ऐसा करना असंवैधानिक है। संबंधित पेज11।1’>>आन के नाम पर किसी की पसंद का गला नहीं घोंटा जा सकता1’ प्रेमी जोड़ों की सुरक्षा और उनकी जिंदगी में दखल देने वालों पर कार्रवाई के बारे में जारी किए दिशानिर्देशसामाजिक उत्थान के बावजूद समस्या बरकरार1कोर्ट ने कहा कि लगातार सामाजिक उत्थान के बावजूद ऑनर किलिंग की समस्या उसी तरह बनी हुई है जैसा 1750 बीसी में हम्मूराबी कोड में जिक्र है। इस अपराध में शामिल लोग अपने नैतिक और दार्शनिक तर्को के आधार पर कानून तोड़ने को सही नहीं ठहरा सकते।पसंद का जीवनसाथी चुनना मौलिक अधिकार1दो वयस्कों को अपनी पसंद से एक दूसरे को जीवनसाथी चुनना संविधान के अनुच्छेद 19 (अभिव्यक्ति की आजादी) और 21 (जीवन का अधिकार) के तहत आता है। इसे क्लास ऑनर के आधार पर खत्म नहीं किया जा सकता।तीन साल में 288 घटनाएं1कोर्ट ने नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के हवाले से ऑनर किलिंग के मामले भी उद्धत किए। इसके मुताबिक 2014 से 2016 के बीच ऑनर किलिंग की 288 घटनाएं हुईं। 2014 में 28, 2015 में 192 और 2016 में 68 घटनाएं हुईं

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स