Searching...
Wednesday, September 20, 2017

पदोन्नति से ऐन वक्त पहले शिकायतों पर कार्रवाई नहीं, छह माह के अंदर मिली शिकायत का संज्ञान नहीं लिया जाएगा, केंद्रीय सतर्कता आयोग ने लिया फैसला

नई दिल्ली एजेंसीकेंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) ने कहा कि वरिष्ठ स्तर के पदों या पदोन्नति के लिए जब अधिकारियों के नामों पर विचार चल रहा हो तो उनके खिलाफ आखिरी क्षण में की गई भ्रष्टाचार की शिकायत पर कार्रवाई नहीं की जाएगी। यह घोषणा ऐसे नौकरशाहों के लिए राहत भरी हो सकती है, जिनमें से कुछ अपनी प्रस्तावति प्रोन्नति या पदस्थापना से पहले अपने खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों में बढ़ोतरी की शिकायत करते हैं। सीवीसी वरिष्ठ स्तर पर नियुक्तियों और पदोन्नतियों के लिए केंद्र सरकार के अधिकारियों को सतर्कता संबंधी मंजूरी प्रदान करता है। केंद्रीय सतर्कता आयुक्त केवी चौधरी ने कहा, प्रस्तावित पदोन्नति के छह महीने के अंदर मिली किसी भी शिकायत को संज्ञान में नहीं लिया जाएगा। चौधरी ने कहा, सामान्य तौर पर किसी के पदोन्नत होने या किसी पद पर उनके नाम का विचार होने से ठीक पहले शिकायतें आने का चलन है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि कदाचार को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।