Searching...
Sunday, July 30, 2017

सरकारी अधिकारी और कर्मचारी अब अपनी निजी गाड़ी पर उप्र सरकार लिखाकर नहीं चल सकेंगे, वीआईपी कल्चर को जड़ से खत्म करने की कवायद में एक और बड़ा फैसला

लखनऊ : वीआईपी कल्चर को जड़ से खत्म करने की कवायद में नीली बत्ती हटाने के आदेश के बाद परिवहन विभाग ने एक और बड़ा फैसला किया है। सरकारी अधिकारी और कर्मचारी अब अपनी निजी गाड़ी पर उप्र सरकार लिखाकर नहीं चल सकेंगे। यह रोक दो और चार पहिया दोनों तरह के वाहनों पर लागू होगी। मांगी थी छूट: सरकारी गाड़ी पर उप्र सरकार लिखा होना ठीक है मगर अधिकतर अधिकारियों ने निजी वाहनों पर भी उत्तर प्रदेश सरकार लिखवा रखा है।



कई अधिकारियों ने सीएम कार्यालय पत्र लिखकर प्राइवेट गाड़ियों पर ‘उत्तर प्रदेश सरकार’ लिखने की छूट मांगी थी। सीएम कार्यालय पहुंचे इन पत्रों को नियमों की जांच के लिए परिवहन विभाग के पास भेजा गया। वहां मोटरयान नियमावली को देखने के बाद तय किया गया कि निजी गाड़ियों पर उत्तर प्रदेश सरकार लिखना गलत है। अगर निजी गाड़ी पर उप्र सरकार लिखा है तो वह वीआईपी कल्चर को बढ़ावा देने जैसा है।

बीती एक मई से प्रदेश में लाल और नीली बत्ती को हटाने का आदेश दिया गया था, ये तो हट गईं लेकिन सरकारी अधिकारियों का वीआईपी कल्चर का मोह नहीं छूटा। ऐसे में वे अपने प्राइवेट वाहनों पर ‘उत्तर प्रदेश सरकार’ लिखाए हुए हैं।

परिवहन आयुक्त कार्यालय पर तैनात आरटीओ (आईजीआरएस) के रविशंकर वर्मा का कहना है कि यदि कोई अपनी निजी गाड़ी में उप्र सरकार लिखवाता है तो उसके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई होगी।