Searching...
Sunday, May 7, 2017

मानदंडों को पूरा करने पर ही सर्टिफिकेट का लाभ, ओबीसी के आधार पर किसी को तय तारीख तक सर्टिफिकेट जमा करने से छूट नहीं




विसं, इलाहाबाद : ओबीसी सर्टिफिकेट मामले में फुलकोर्ट ने अपने फैसले में हाईकोर्ट के उस खंडपीठ के निर्णय को सही माना जिसने अरविंद कुमार यादव के केस में कहा था कि विज्ञापन में निर्धारित शर्तो को मानने को सभी पक्ष बाध्य हैं। इस फैसले में तीनों जजों ने यह भी कहा है कि केंद्र व राज्य सरकार की नौकरियों के लिए जारी ओबीसी सर्टिफिकेट्स में भले ही कोई फर्क न हो, परंतु यदि कोई अभ्यर्थी राज्य सरकार के नौकरी में फार्म भरता है तो उसे राज्य द्वारा निर्धारित ओबीसी सर्टिफिकेट के मानदंडों को पूरा करना होगा, तभी उसे सर्टिफिकेट का लाभ मिलेगा।
तीन जजों की पूर्णपीठ में मुख्य न्यायाधीश डीबी भोंसले, न्यायमूर्ति दिलीप गुप्ता व न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा ने यह फैसला गौरव शर्मा व कई अन्य की याचिकाओं को तय करते हुए दिया। तीन जजों के सामने यह मामला तब आया जब हाईकोर्ट की दो अलग-अलग खंडपीठों में इस बात को लेकर मतभिन्नता थी कि विज्ञापन में तय तारीख पर ओबीसी सर्टिफिकेट न देने पर बाद क्या उसे स्वीकार किया जा सकता है? एक खंडपीठ का कहना था कि तय तारीख के बाद सर्टिफिकेट स्वीकार नहीं किया जा सकता, जबकि वही दूसरी खंडपीठ का तर्क था कि तय तारीख के बाद भी यदि कोई सर्टिफिकेट देता है तो वह स्वीकार किया जा सकता है। 
दूसरे जज का कहना था कि यदि कोई ओबीसी है तो वह जन्म से है इससे फर्क नहीं पड़ता कि उसने सर्टिफिकेट तय तारीख के बाद जमा किया। दो जजों के बीच इस मामले में मतभिन्नता के चलते यह प्रकरण तीन जजों के सामने अधिकृत फैसला देने के लिए संदर्भित था। पूर्णपीठ के तीनों जजों ने सरकार से इस पर पक्ष रखने को कहा था।
सरकार की ओर से पूर्व मुख्य स्थाई अधिवक्ता रमेश उपाध्याय व स्थाई अधिवक्ता रामानंद पांडेय ने कोर्ट के समक्ष तर्क रखते हुए कहा था कि तय सीमा के अंदर जाति प्रमाणपत्र देने के पीछे मंशा यह होती है कि अभ्यर्थियों का फार्म स्क्रीनिंग होकर चयन की प्रक्रिया आगे बढ़े। यदि तय सीमा के बाद भी जाति प्रमाणपत्रों को स्वीकार किया जाना जारी रहेगा तो कोई भी भर्ती कभी पूरी नहीं हो सकती। उनका कहना था कि कहीं न कहीं तो एक तारीख सर्टिफिकेट को जमा करने की तय करनी होगी, वर्ना कोई चयन प्रक्रिया पूरी ही नहीं हो सकती। वहीं याचियों की तरफ से कई वकीलों विजय गौतम, सीमांत सिंह, हिमांशु पांडेय, मनीषा चतुर्वेदी आदि ने पक्ष रखा। इन वकीलों का कहना था कि सुप्रीम कोर्ट ने रामकुमार गिजरोया के केस में कहा है कि जाति जन्म से ही तय हो जाती है इस नाते यदि सर्टिफिकेट तय तारीख तारीख जमा नहीं हो सका तो परीक्षा परिणाम आने से पहले स्वीकार किया जा सकता है। बहस थी कि फार्म में जाति का जिक्र है, परंतु निर्धारित फार्मेट में ओबीसी सर्टिफिकेट न होने के कारण ओबीसी को सामान्य में मान लेना गलत है। तीनों जजों ने अपने फैसले में तय किया कि ओबीसी के आधार पर किसी को तय तारीख तक सर्टिफिकेट जमा करने से छूट नहीं मिल सकती।
मालूम हो कि यह मामला पुलिस विभाग में कंप्यूटर आपरेटर पदों पर भर्ती का था। इसमें अभ्यर्थियों ने आवेदन करते समय ओबीसी होना ऑनलाइन फार्म में बताया था, परंतु मांगी गई निर्धारित फार्मेट में उन्होंने ओबीसी सर्टिफिकेट तय तारीख तक जमा नहीं किया था। जिस कारण उन्हें विज्ञापन की शर्तो के मुताबिक सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी के रूप में मान लिया गया था।

साभार : दैनिक जागरण
 
 

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स