Searching...
Thursday, December 15, 2016

बजट का 50% तो अब वेतन-पेंशन पर ही होगा खर्च, सातवें वेतनमान के बाद विकास पर खर्च और घटना तय

☀ विकास के कामों में अभी खर्च होता है बजट का 21 फीसदी

☀ दिन-प्रति-दिन कमजोर हो रही आर्थिक स्थिति

27 लाख कर्मचारियों, अधिकारियों, शिक्षकों और पेंशनरों को सातवें वेतन का लाभ देने से प्रदेश की आर्थिक स्थिति का डगमगाना तय है। सातवां वेतन का लाभ देने से करीब 18 हजार करोड़ रुपये सालाना का खर्च आएगा। इसका सीधा असर सूबे के विकास के कामों पर पड़ना तय माना जा रहा है। अभी तक विकास के कामों पर बजट का 21 फीसदी हिस्सा खर्च होता है। इस हिस्से का घटना अब तय है।

यदि चुनावी साल नहीं होता तो शायद सरकार सातवां वेतन देने से पहले सोचती। अभी तक यूपी सरकार अपने कर्मचारियों, अधिकारियों, शिक्षकों और पेंशनरों पर कुल बजट का 35 फीसदी वेतन और पेंशन के मद में धन खर्च करता है। 26 फीसदी वेतन पर और नौ फीसदी पेंशन पर लेकिन वेतन और पेंशन के मद में करीब 15 फीसदी (14.25) फीसदी वृद्धि के बाद अब बजट का 50 फीसदी खर्च करना होगा। इसका सीधा असर विकास के कामों पर लगने वाली धनराशि पर पड़ सकता है। विकास के कामों की धनराशि के हिस्से में कोई कमी न आने पाए, इसके लिए नई सरकार को निश्चित रूप से नए टैक्स लगाने पड़ सकते हैं। अन्यथा विकास के कामों की धनराशि घट जाएगी। यूपी सरकार की आर्थिक स्थिति पहले से ही ठीक नही है।



31 मार्च 2017 तक यूपी के ऊपर करीब 5 लाख करोड़ रुपये का लोन हो जाएगा। यूपी सरकार पर 1,61,202 करोड़ का कर्ज वित्तीय संस्थाओं का है जबकि 3,02,383 करोड़ रुपये का कर्ज केंद्र सरकार का है। करीब 37 हजार करोड़ का कर्ज अन्य संस्थाओं से लिया गया है। वर्ष 2016-17 में यूपी सरकार ने 1,45,635 करोड़ रुपये का प्रावधान अपने कर्मचारियों, अधिकारियों, शिक्षकों और पेंशनरों व ब्याज की मद में किया है जबकि 2015-16 में यूपी सरकार ने इन मदों में 1,31,255 करोड़ का प्रावधान किया था। यानी सरकार ने इस वित्तीय वर्ष में पिछले साल के मुकाबले करीब 14 हजार करोड़ का ज्यादा प्राविधान किया है। इससे इस वित्तीय वर्ष में पड़ने वाले महीनों का सातवां वेतन और पेंशन आसानी से बंट जाएगा लेकिन इसका असर आगे पड़ेगा। देखने की बात यह होगी कि इस मद में केंद्र सरकार मदद देती है या नहीं। अर्थशा�ी आशंका जता रहे हैं कि यदि केंद्र ने मदद नहीं की तो अगले साल से विकास कार्यों पर असर निश्चित पड़ेगा।

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स