Searching...
Thursday, July 14, 2016

एचआरए बढ़ेगा, नहीं मानी गयी पूरी मांग, राज्यकर्मचारियों ने दस अगस्त से तीन दिवसीय पूर्ण हड़ताल कर दी घोषणा

मुख्य सचिव ने दो मांगों को कैबिनेट में ले जाने का आश्वासन दिया

राज्य कर्मियों ने एक घंटे तक सीएम दफ्तर घेरा

अगले माह से हो सकती राज्यकर्मियों के मकान किराये भत्ते में 20 फीसद वृद्धि

लखनऊ : राज्य कर्मचारियों का मकान किराया भत्ता (एचआरए) बढ़ाने के मामले में सरकार सहमत तो हो गयी है किंतु कर्मचारियों की पूरी मांग नहीं मानी गयी है। मौजूदा एचआरए में 20 फीसद वृद्धि का प्रस्ताव कैबिनेट बैठक में लाने की तैयारी है। सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों पर अमल की शुरुआत को भी कैबिनेट बैठक का इंतजार है।

राज्य कर्मचारी लंबे समय से एचआरए में वृद्धि के साथ इसे ग्रेड पे से जोड़ने की मांग कर रहे थे। तर्क था कि इससे वेतन के अनुरूप एचआरए बढ़ सकेगा। मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित समिति ने एचआरए बढ़ाने संबंधी मांग पर तो सहमति जताई है, किंतु ग्रेड पे से संबद्ध करने की मांग अस्वीकार कर दी है। प्रमुख सचिव (वित्त) राहुल भटनागर ने बताया कि सभी कर्मचारियों को उनके मौजूदा मकान किराया भत्ता में सीधे-सीधे 20 फीसद वृद्धि का लाभ देने का प्रस्ताव किया गया है। भविष्य में सातवें वेतन आयोग की संस्तुतियों की स्वीकार्यता की स्थिति में इसकी समीक्षा की जाएगी। सातवें वेतन आयोग में ग्रेड पे समाप्त कर मूल वेतन में जोड़ते हुए नए आधार सृजित किये गए हैं, इसलिए भी एचआरए को ग्रेड पे से जोड़ना मुख्य सचिव समिति को बहुत औचित्यपूर्ण नहीं लगा।

इस बीच सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें लागू करने के लिए समीक्षा समिति बनाने संबंधी प्रस्ताव भी वित्त विभाग ने मुख्यमंत्री कार्यालय को भेज दिया है। इसे सैद्धांतिक सहमति के बाद अब कैबिनेट के समक्ष लाने की तैयारी है। कैबिनेट से मंजूरी के बाद मुख्यमंत्री के स्तर पर समीक्षा समिति के अध्यक्ष का नाम घोषित किया जाएगा। उनके साथ वित्त विभाग के अधिकारियों की टीम केंद्र सरकार द्वारा स्वीकार सिफारिशों के आलोक में फैसला करेगी। माना जा रहा है कि समीक्षा समिति से तीन माह में रिपोर्ट देने को कहा जाएगा, ताकि हर हाल में इसी साल कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों का लाभ दिया जा सके।

लखनऊ : लंबे समय बाद राज्य कर्मचारियों ने अपनी ताकत का अहसास कराते हुए सचिवालय एनेक्सी (मुख्यमंत्री दफ्तर) को एक घंटे तक घेरे रखा। राज्य कर्मचारियों ने 10 से 12 अगस्त तक पूर्ण हड़ताल पर जाने की घोषणा की है। मुख्य सचिव दीपक सिंघल की कर्मचारी संगठनों के पदाधिकारियों के साथ वार्ता में दो मांगों को कैबिनेट में ले जाने पर सहमति बनी है, लेकिन कर्मचारियों ने हड़ताल पर जाने के निर्णय को बरकरार रखा है।

बुधवार सुबह दस बजे से राज्य कर्मचारियों के पूर्व प्रस्तावित कार्यक्रम के तहत राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के बैनर पर विभिन्न जिलों से एकत्र कर्मचारियों ने हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा स्थल पर धरना दिया। इलाज में कैशलैस सुविधा और पुरानी पेंशन बहाल करने समेत कई मांगों को लेकर कर्मचारियों ने राज्य सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए नारेबाजी की। ज्यादा तादाद में जुटे कर्मचारियों को देखते हुए प्रशासन ने सुरक्षा के विशेष इंतजाम किए थे।

सभा में राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष हरिकिशोर तिवारी ने कहा कि वर्ष 2013 में 11 दिनों की राज्य कर्मचारियों की हड़ताल के बाद हाई कोर्ट के हस्तक्षेप पर राज्य सरकार ने कई मांगों को पूरा करने की सहमति जताई थी, जिसमें कैशलेश इलाज दिया जाना भी शामिल था लेकिन मांगों को सरकार ने पूरा नहीं किया। केंद्रीय व राज्य कर्मचारियों के मकान किराया भत्ता में असमानता खत्म की जाए। पूर्व की सेवाओं को जोड़ते हुए तदर्थ, अंशदायी, सामायिक, वर्कचार्ज दैनिक वेतन, अतिथि वक्ताओं की अवधि को जोड़कर पेंशन का लाभ दिया जाए। पुरानी पेंशन व्यवस्था भी बहाल की जाए।

इन मांगों को लेकर राज्य कर्मचारी 10 से 12 अगस्त तक पूर्ण हड़ताल पर रहेंगे और इसके बाद भी मांगों पर सरकार ने कोई निर्णय नहीं लिया तो हड़ताल को अनिश्चितकालीन कर दिया जाए।

तिवारी ने बताया कि मुख्य सचिव ने कैशलेस सुविधा और मकान किराया भत्ता केंद्रीय कर्मचारियों की तरह करने के प्रस्ताव को मंजूरी के लिए अगली कैबिनेट में ले जाने का आश्वासन दिया है और कहा है कि शेष मांगों को पूरा करने पर जल्द बैठक बुलाई जाएगी। महामंत्री अतुल मिश्र ने भी सरकार पर आरोप लगाया कि वह अपनी बातों से ही मुकर रही है।

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स