Searching...
Thursday, June 30, 2016

अंतिम हो सकता है यह वेतन आयोग,  नियमित अंतराल पर आए बदलाव से पे मैट्रिक्स ठीक करने की भावी योजना, पे ग्रेड से नहीं पे मैट्रिक्स से तय होगी कर्मचारियों की स्थिति

केंद्रीय कर्मचारियों के लिए हर 10 साल पर नया वेतनमान देने की परंपरा सातवां वेतन आयोग लागू होने के साथ समाप्त हो सकती है। वेतन आयोग ने अपनी जो रिपोर्ट सरकार को सौंपी है, इसमें ऐसा आग्रह किया था कि आयोग के अनुसार हर 10 साल पर कर्मचारियों के वेतनमान को नए सिरे से बनाने की परंपरा की जगह इसे नियमित अंतराल पर किया जाना चाहिए।

वेतन महंगाई से जोड़ा जाए 
कर्मचारियों के वेतन को खाद्य और दूसरी जरूरी चीजों की महंगाई के साथ जोड़ा जाना चाहिए। नियमित अंतराल पर आए बदलाव से कर्मचारियों के पे मैट्रिक्स को ठीक कर दिया जाए। इससे हर 10 साल पर वेतन आयोग बनाने की उलझी प्रक्रिया समाप्त हो जाएगी। अभी हर 10 साल पर कर्मचारियों को नया वेतनमान मिलता है और इस दौरान इन्हें महंगाई भत्ते बढ़ने का फायदा मिलता है। सूत्रों के अनुसार सरकार इस पर सैद्धांतिक रूप से सहमत हो गई है और कमिटी इस बारे में तमाम पक्षों से विचार कर इस बहस को आगे बढ़ा सकती है।

पीएम की इच्छा, ग्रुप इंश्योरेंस हो
वेतन आयोग ने सिफारिश की थी कि ग्रुप इंश्योरेंस की व्यवस्था की जाए और सभी कर्मचारियों का कम से कम 1470 रुपये हर महीने वेतन से काट कर प्रीमियम का भुगतान किया जाए। कर्मचारियों के विरोध के कारण इसे लागू नहीं किया जाएगा। अभी भी इस मद में मात्र 30 रुपये कटेंगे। सूत्रों के अनुसार पीएम मोदी चाहते हैं कि सोशल सिक्युरिटी के नाम पर सभी को बेहतर सुरक्षा कवर मिले। इसके लिए अगले 4 महीने में सेक्रेटरी स्तर पर गठित कमिटी की रिपोर्ट आने के बाद नए सिरे से इसका प्रस्ताव कर्मचारियों को दिया जा सकता है। सूत्रों के अनुसार सरकार की मंशा है कि शुरुआत में इसे ऑप्शनल रखा जाए और धीरे-धीरे सभी कर्मचारियों को स्वत: तरीके से इसमें शामिल किया जाए।

बिना ब्याज के एडवांस
अब केंद्रीय कर्मचारियों को घर बनाने में आसानी होगी। नए वेतनमान के बाद अब उन्हें घर बनाने के लिए साढ़े सात लाख की जगह 25 लाख तक का अडवांस मिल सकेगा। इसके अलावा सिर्फ मेडिकल, ट्रांसफर या सरकारी दौरे, किसी के आकस्मिक मौत पर या फिर एलटीसी मद में ब्याज रहित एडवांस मिलेगा। इसके अलावा बाकी सभी एडवांस को समाप्त कर दिया गया है। ग्रेच्युटी की सीमा भी 10 लाख से बढ़ाकर 20 लाख कर दी गयी है।

सेना को मिली प्राथमिकता
वेतन आयोग ने देश के लिए जान देने वाने जवानों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए कई सिफारिश को माना। इसके तहत 
मिलिट्री अपॅसर के लिए मिलिट्री सर्विस पे को 6 हजार रुपये से बढ़ाकर 15500 रुपये प्रति महीने की सिफारिश मानी गई। साथ ही वेतन विसंगति को दूर करने के लिए भी कई प्रस्ताव माने गए। पे कमीशन के हेड जस्टिस माथुर ने सेनाओं की दशा जानने में रुचि दिखाई थी।

बुधवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पांचवे या छठे वेतन आयोग के मुकाबले इस बार कम वेतनमान वृद्धि के पक्ष में वेतन आयोग की ओर से कराए गए सर्वे का हवाला दिया। वेतन आयोग ने आईआईएम अहमदाबाद की मदद से सर्वे कराया था, जिसमें एक ही काम के लिए सरकार,पीएसयू और प्राइवेट कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों के वेतनमान की तुलना की गई थी। इसमें यह बात सामने आई थी कि प्राइवेट के मुकाबले सरकार कर्मचारी कहीं अधिक वेतन पा रहे हें। लेकिन पिछले 2 वेतनमान में हालात ठीक उलट थे। तब सरकारी कर्मचारियों को प्राइवेट कर्मचारियों के मुकाबले वेतनमान देने की चुनौती दी थी, जिस कारण अधिक वृद्धि करनी पड़ी थी। दरअसल इस बार तमाम कर्मचारी संगठन वेतनमान वृद्धि को नाकाफी बता रहे हैं।

कर्मचारियों को कोई दिक्कत न हो, यह सुनिश्चित करने के लिए 4 ब्याज मुक्त अग्रिमों योजनाओं को बरकरारखा गया है, जिनमें चिकित्सा इलाज के लिए अग्रिम, टूर/स्थानांतरण के लिए टीए, मृतक कर्मचारियों के परिवार के लिए टीए और एलटीसी शामिल हैं। अन्य सभी ब्याज मुक्त अग्रिम को समाप्त कर दिया गया है।

बीमार रहने की सूरत में भी कर्मचारियों को पूरा वेतन मिलेगा। इसके लिए मेडिकल लीव सिस्टम में बदलाव किया गया है। अब हॉस्पिटल लीव, स्पेशल डिसेब्लिटी लीव और सिक लीव को मिलकर अब एक नया छुट्टी का ढांचा बना दिया गया है, जिसे वर्क रिटेटिड इलनैस एंड एंजरी लीव का नाम दिया गया है।

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स