Searching...
Thursday, March 3, 2016

नौकरी पेशा पर दोहरा बोझ : कर्मचारी भविष्य निधि की निकासी के एक हिस्से पर कर लगाने के बजट प्रावधान का तीखा विरोध

लोगों को पेंशन के लिए प्रेरित करना अच्छा है, पर इसके लिए ईपीएफ की पेंशन योजना को सुधारा जा सकता है, जिसमें पेंशन राशि फिलहाल बहुत कम है।

कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) की निकासी के एक हिस्से पर कर लगाने के बजट प्रावधान के तीखे विरोध को देखकर सरकार ने इसके 60 फीसदी हिस्से के ब्याज पर आगामी वित्त वर्ष से टैक्स लगाने की बात कही है, लेकिन यह भी उतना ही अनुचित होगा। यही नहीं कि बजट का यह प्रावधान दोहरे कराधान को बढ़ावा देने वाला होगा; यानी नौकरीपेशा वर्ग आय पर तो कर चुकाता ही है, उसे बचत पर भी कर चुकाना होगा, बल्कि यह इसका भी सबूत है कि कर दायरे को व्यापक करने के बजाय सरकार को वह नौकरीपेशा वर्ग ही सबसे आसान शिकार लगता है, जिसके वेतन-भत्ते छिपे हुए नहीं होते। जबकि कारोबारियों और प्रोफेशनलों का एक बड़ा हिस्सा अब भी कर दायरे से या तो बाहर है या वह आय के अनुरूप कर नहीं चुकाता। अमीरों की संख्या बढ़ रही है, पर कर दायरा उसके अनुरूप नहीं बढ़ रहा, तो साफ है कि नौकरीपेशा वर्ग को छोड़कर दूसरे पेशे से जुड़े लोगों को कर दायरे में लाने की गंभीर कोशिश नहीं हो रही। सरकार का तर्क है कि बजट में यह प्रावधान वह अधिक बीमा और पेंशन वाले समाज का सृजन करने के लिए लाई है। यानी ईपीएफ की 60 फीसदी राशि पेंशन स्कीम में निवेश कर ब्याज पर लगने वाले टैक्स की कटौती से बचा जा सकता है। पर सरकार कैसे तय कर सकती है कि रिटायर होते वक्त कोई कितनी राशि कहां निवेश करेगा? यहां साफ है कि सरकार ने यह कदम एनपीएस (नेशनल पेंशन सिस्टम) में निवेश बढ़ाने के उद्देश्य से उठाया है। सरकार का कहना है कि यह प्रावधान ईपीएफ के करीब तीन करोड़ गरीब अंशदाताओं के लिए नहीं, बल्कि निजी क्षेत्र के ऊंचे वेतन वाले करीब सत्तर लाख अंशदाताओं को पेंशन स्कीम में प्रेरित करने के लिए है। लेकिन यह सरकार की आधी-अधूरी तैयारी का ही सूचक है। लोगों को पेंशन के लिए प्रेरित करना अच्छा है, पर इसके लिए ईपीएफ की पेंशन योजना को सुधारा जा सकता है, जिसमें पेंशन राशि बहुत कम है। इस पूरे प्रकरण से ऐसा लगता है कि यह प्रावधान लाने से पहले सरकार ने संबंधित मंत्रालयों और ईपीएफ तथा एनपीएस के सदस्यों के साथ समुचित विमर्श नहीं किया। पर अब भी देर नहीं हुई है, नए प्रावधान को सरकार को वापस लेना चाहिए।


खबर साभार : अमर उजाला
 

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स