Searching...
Monday, March 7, 2016

मुख्य सचिव द्वारा वेतन विसंगति दूर करने के आश्वासन पर 11 मार्च को प्रस्तावित महाधरना अब तीन मई को


लखनऊ : कर्मचारियों की वेतन विसंगति, पेंशन ग्रेच्युटी सहित कई प्रमुख मांगों को लेकर राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद का महाधरना अब तीन मई को होगा। पहले महाधरना 11 मार्च को राजधानी में प्रस्तावित था जिसे मुख्य सचिव से हुई वार्ता में मिले आश्वासन के बाद आगे बढ़ा दिया गया है। परिषद ने सभी मांगों को पूरा करने के लिए सरकार को 30 अप्रैल तक का समय दिया है।


संयुक्त परिषद के अध्यक्ष एसपी तिवारी, कार्यकारी अध्यक्ष हरिशरण मिश्र व महामंत्री आरके निगम की अध्यक्षता में रविवार को हुई कार्य समिति बैठक में दो दिन पूर्व मुख्य सचिव आलोक रंजन से वेतन विसंगति दूर करने के मिले आश्वासन व सरकार के सकारात्मक रूख व अन्य स्थितियों पर चर्चा हुई। बैठक में ही कर्मचारी नेताओं ने सरकार को अप्रैल तक का समय देते हुए मांग न पूरी होने पर महाधरने को तीन मई को करने का फैसला सर्वसम्मति से किया।