Searching...
Wednesday, October 28, 2015

कर्मचारियों को धीमे से जोर का झटका, सिर्फ कहने भर को है 0.01 फीसदी प्रबंधन शुल्क कटौती, करोड़ों रुपये की हो जाएगी वसूली

इलाहाबाद। दीपावली से ठीक पहले नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस) के तहत सरकारी ट्रस्ट के प्रबंधन के लिए 0.01 फीसदी प्रबंधन शुल्क की वसूली के आदेश से कर्मचारियों को जोर का झटका धीमे से लगा है। देश भर में तकरीबन 28 लाख कर्मचारी इससे प्रभावित होंगे। कहने को कटौती की रकम बहुत छोटी है लेकिन दायरा इतना बढ़ा है कि प्रबंधन शुल्क के नाम पर करोड़ों रुपये की वसूली जाएगी। कर्मचारियों ने इसका विरोध भी शुरू कर दिया है। उनका कहना है कि यह स्कीम 2005 से लागू है तो दस साल तक प्रबंधन कैसे हुआ और कर्मचारियों की मेहनत की कमाई से वसूली का अधिकार सरकार को किसने दिया।
 
एनपीएस के तहत किसी कर्मचारी को अगर एक लाख रुपये जमा है तो उसके वेतन से प्रबंधन शुल्क के नाम पर 10 रुपये की कटौती की जाएगी। हर साल पेंशन खाते में जितनी रकम बढ़ती जाएगी, उसी अनुपात में प्रबंधन शुल्क की सालाना कटौती राशि में भी वृद्धि होती जाएगी। ऐसे में कर्मचारियों के पैसे का रखरखाव करने वाले सरकारी ट्रस्ट का खजाना बढ़ता जाएगा और कर्मचारियों की जेब कटती जाएगी। कर एवं वित्त सलाहकार डॉ. पवन जायसवाल का कहना है कि इस व्यवस्था से सरकार की झोली तो भर जाएगी लेकिन कर्मचारियों की झोली में नपी-तुली तनख्वाह आती है। ऐसे में भविष्य में उनका पेंशन फंड कम हो जाएगा। इस व्यवस्था को लागू करने से पहले ट्रस्ट को प्रस्ताव बनाकर इस मुद्दे पर आम राय एवं सहमति बनानी चाहिए थी। 
 
साथ ही पीएफआरडीए को भी मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए, क्योंकि यह व्यवस्था किसी भी रूप में कर्मचारियों के लिए लाभकारी नहीं है, बल्कि नुकसान पहुंचाएगी। कर्मचारी शिक्षक समन्वय समिति के संयोजक हनुमान प्रसाद श्रीवास्तव का कहना है कि कर्मचारियों के मोबाइल में कटौती का मैसेज भेजकर सरकार ने अपनी जिम्मेदारी पूरी मान ली। एनपीएस के तहत पेंशन फंड के लिए 2005 से कर्मचारियों के वेतन से कटौती जा रही है। अब तक इसके प्रबंधन का खर्च कौन उठा रहा था। कर्मचारी इस कटौती का विरोध करेंगे। कोऑर्डिनेशन कमेटी ऑफ सेंट्रल गवर्नमेंट इम्पलाइज, यूपी ईस्ट के कार्यकारी अध्यक्ष कृपा शंकर श्रीवास्तव का कहना है कि सरकार को प्रशासनिक खर्च का वहन अपने स्नोत से करना चाहिए। कर्मचारियों से वसूली गलत है। इसका विरोध होगा। 
 
 

संबन्धित खबरों के लिए क्लिक करें

GO-शासनादेश NEWS अनिवार्य सेवानिवृत्ति अनुकम्पा नियुक्ति अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण अवकाश आंगनबाड़ी आधार कार्ड आयकर आरक्षण आवास उच्च न्यायालय उच्‍च शिक्षा उच्चतम न्यायालय उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड उपभोक्‍ता संरक्षण एरियर एसीपी ऑनलाइन कर कर्मचारी भविष्य निधि EPF कामधेनु कारागार प्रशासन एवं सुधार कार्मिक कार्यवाही कृषि कैरियर कोर्टशाला कोषागार खाद्य एवं औषधि प्रशासन खाद्य एवम् रसद खेल गृह गोपनीय प्रविष्टि ग्रामीण अभियन्‍त्रण ग्राम्य विकास ग्रेच्युटी चतुर्थ श्रेणी चयन चिकित्सा चिकित्‍सा एवं स्वास्थ्य चिकित्सा प्रतिपूर्ति छात्रवृत्ति जनवरी जनसंख्‍या जनसुनवाई जनसूचना जनहित गारण्टी अधिनियम धर्मार्थ कार्य नकदीकरण नगर विकास निबन्‍धन नियमावली नियुक्ति नियोजन निर्वाचन निविदा नीति न्याय न्यायालय पंचायत चुनाव 2015 पंचायती राज पदोन्नति परती भूमि विकास परिवहन पर्यावरण पशुधन पिछड़ा वर्ग कल्‍याण पीएफ पुरस्कार पुलिस पेंशन प्रतिकूल प्रविष्टि प्रशासनिक सुधार प्रसूति प्राथमिक भर्ती 2012 प्रेरक प्रोन्‍नति प्रोबेशन बजट बर्खास्तगी बाट माप बेसिक शिक्षा बैकलाग बोनस भविष्य निधि भारत सरकार भाषा मकान किराया भत्‍ता मत्‍स्‍य मंहगाई भत्ता महिला एवं बाल विकास माध्यमिक शिक्षा मानदेय मानवाधिकार मान्यता मुख्‍यमंत्री कार्यालय युवा कल्याण राजस्व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद राज्य सम्पत्ति राष्ट्रीय एकीकरण रोक रोजगार लघु सिंचाई लोक निर्माण लोक सेवा आयोग वरिष्ठता विकलांग कल्याण वित्त विद्युत विविध विशेष भत्ता वेतन व्‍यवसायिक शिक्षा शिक्षा शिक्षा मित्र श्रम सचिवालय प्रशासन सत्यापन सत्र लाभ सत्रलाभ समन्वय समाज कल्याण समाजवादी पेंशन समारोह सर्किल दर संवर्ग संविदा संस्‍थागत वित्‍त सहकारिता सातवां वेतन आयोग सामान्य प्रशासन सार्वजनिक उद्यम सार्वजनिक वितरण प्रणाली सिंचाई सिंचाई एवं जल संसाधन सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम सूचना सेवा निवृत्ति परिलाभ सेवा संघ सेवानिवृत्ति सेवायोजन सैनिक कल्‍याण स्टाम्प एवं रजिस्ट्रेशन स्थानांतरण होमगाडर्स